इस देश में यदि बच्चों को भूखा सुलाया या फिर उन्हें तकलीफ पहुंचाई तो माता-पिता को होगी सजा

japan,mischief parents,

चैतन्य भारत न्यूज

टोक्यो. बच्चे जब गलती करते हैं तो माता-पिता उन्हें फटकार लगा देते हैं ताकि आगे चलकर वह बढ़ी गलती न करें। लेकिन जापान में अब माता-पिता बच्चों को किसी भी तरह की सजा नहीं दे सकेंगे, भले ही वह उन्हें अनुशासित करने के लिए ही क्यों न हो। जी हां…. जापान की कैबिनेट (इसमें प्रधानमंत्री समेत कई वरिष्ठ मंत्री शामिल हैं) के प्रस्ताव पर देश के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिशा-निर्देश का मसौदा जारी किया है। दरअसल इसका उद्देश्य बच्चों के साथ उत्पीड़न की बढ़ती घटनाओं को खत्म करना है। हालांकि चर्चा के बाद इसे अंतिम रूप दिया जाएगा।



बच्चों को शारीरिक तकलीफ सजा का आधार नहीं

नए नियम के मुताबिक, माता-पिता बच्चों को कोई भी ऐसी सजा नहीं दे सकते हैं जिससे शरीर को तकलीफ पहुंचती हो। इसमें कहा गया है कि कई बार माता-पिता तर्क देते हैं कि बच्चों को कई बार चेतावनी दी, पर वे सुनते ही नहीं, इसलिए गाल पर थप्पड़ लगा दिया जाता है, उसने दोस्तों के साथ पिटाई की, इसलिए सजा देनी पड़ी, बच्चे किसी और का सामान उठा लाए थे, इसलिए भूखे रहने की सजा दी। लेकिन नए नियम के मुताबिक, ये तर्क अब सजा का आधार नहीं बन सकेंगे।

भावनात्मक पीड़ा से दूर रखने की कोशिश

रिपोर्ट के मुताबिक, भले ही कितने परेशान हों, पर माता-पिता बच्चों से ऐसा नहीं बोल सकते हैं कि, ‘अच्छा होता कि तुम पैदा ही नहीं हुए होते’। इस तरह की बातें कहना बच्चों के लिए मौखिक दुर्व्यवहार माना जाएगा। इसे बच्चों के अधिकारों का उल्लंघन माना जाएगा। इसके लिए इस नियम के तहत पढ़ाई या एक्टिविटीज को लेकर बच्चों की अन्य भाई-बहनों से या उनके दोस्तों से तुलना करके उन्हें नीचा दिखाना या उन्हें अनदेखा करना भी गैरकानूनी होगा।

माता-पिता को दी जाएगी सजा 

इसके बाद भी यदि माता-पिता ऐसा कुछ करते हैं तो उन्हें क्या सजा दी जाए। इतना ही नहीं बल्कि माता-पिता पर भारी-भरकम जुर्माना भी तय किया जा सकता है। नया कानून अगले साल मार्च से लागू होगा। वहीं मंत्रालय का कहना है कि, ‘हम माता-पिता के अधिकार खत्म नहीं कर रहे। हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि बच्चों के मानस पर बुरा प्रभाव ना पड़े, हमारी कोशिश सिर्फ इतनी है कि माता-पिता अपने बच्चों की भावनाएं समझें और समस्याओं को बातचीत के जरिए हल करें न कि उनके साथ दुर्व्यवहार करके।’

ये भी पढ़े…

स्कूल में बच्चों के झगड़े रोकने क्लास में रोबोट लगाएगा जापान, संकेतों से सुलझेंगे विवाद

एक ऐसा देश जहां ट्रेन की बागडोर संभालते हैं नन्हें बच्चे, निभाते हैं हर जिम्मेदारी

हर नई मां करती हैं ये गलतियां, बच्चे की परवरिश के लिए ध्यान रखें ये जरुरी बातें

Related posts