आईटीबीपी ने शुरू की अनोखी पहल, जवानों को जीवनसाथी चुनने के लिए करेगा मदद

itbp,wedding portal for unmarried,wedding portal in itbp

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. भारत तिब्बती सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने एक अनोखी पहल शुरू की है। आईटीबीपी ने अपने अविवाहित, वीरांगना और जीवनसाथी से अलग हो चुके कर्मियों को बल के अंदर ही योग्य व सही जीवनसाथी ढूंढने में मदद पहुंचाने के लिए एक वैवाहिक पोर्टल (मैट्रिमोनियल पोर्टल) बनाया है। खास बात यह है कि किसी भी अर्द्धसैनिक बल में पहली बार ऐसा कदम उठाया गया है।



अधिकारियों ने बताया कि पर्वतीय लड़ाई में प्रशिक्षित इस बल पर मुख्य रूप से चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा की रक्षा करने की जिम्मेदारी है। इस बल में फिलहाल विभिन्न रैंकों में करीब 2500 अविवाहित पुरुष और 1000 महिलाएं हैं। आईटीबीपी के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, बहुत सारे कर्मी सुदूर क्षेत्रों में तैनात हैं। ऐसे में उनके लिए उनके परिवार की ओर से एक अच्छा जीवनसाथी ढूंढना बड़ा मुश्किल काम हो गया है।

अधिकारी ने बताया कि एक आंकड़े के मुताबिक, बल में करीब 333 कार्यरत दंपति हैं (यानी पति-पत्नी दोनों ही आईटीबीपी में हों) तथा बहुत सारे कर्मी इस संगठन के अंदर ही जीवनसाथी चाहते हैं क्योंकि सरकारी नियम उस दंपति को एक ही स्थान पर तैनाती की सुविधा प्रदान करते हैं। अधिकारियों का कहना है कि इस पहल से बल में कार्यरत दंपतियों के लिए बड़ी प्रसन्नता और राहत की बात होगी। खबरों के मुताबिक, इस अनोखे पोर्ट का लिंक बल की वेबसाइट पर 9 दिसंबर से शुरू कर दिया गया है।

आईटीबीपी प्रवक्ता विवेक कुमार पांडेय ने बताया कि, ‘पोर्टल पर अब तक 150 पंजीकरण दर्ज कराए गए हैं। हमें उम्मीद है कि और इच्छुक पात्र कर्मी पंजीकरण कराएंगे और उन्हें यह नया ऑनलाइन सेवा उपयोगी नजर आएगी।’ उन्होंने कहा कि, ‘इस पोर्टल का उपयोग अविवाहित, विधवा/विधुर और जीवनसाथी से अलग हो चुके कर्मियों द्वारा उपयोग किया जा सकता है।’

ये भी पढ़े…

पूर्व सेना प्रमुख का खुलासा- कारगिल युद्ध के दौरान भारत को बेचा गया 30 साल पुराना गोला बारूद

देश के लिए हंसते-हंसते जान देने वालों को याद करने का दिन, जानें इसका इतिहास और महत्व

आखिर क्यों हुआ था विश्व की सबसे बड़ी सीमा रक्षक फोर्स का गठन? जानें पूरी कहानी

Related posts