दूसरी शादी करके नई जिंदगी की शुरुआत करना चाहता था, इसलिए करा दी पत्नी और 21 महीने के मासूम की हत्या

mother and son murder

चैतन्य भारत न्यूज

जयपुर. राजस्थान के जयपुर में हुए मां-बेटे के हत्याकांड का तीन दिन बाद खुलासा हो गया है। पुलिस ने इस हत्याकांड के मास्टर माइंड श्वेता के पति रोहित तिवारी को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पुलिस ने उस कांट्रेक्ट किलर को भी पकड़ा है, जिसने रोहित तिवारी से मात्र 10 हजार रुपए में उसकी पत्नी और 21 माह के बेटे श्रीयम की हत्या का वादा किया था।


दूसरी शादी के लिए करवाई पत्नी और बेटे की हत्या

जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव के मुताबिक, जयपुर एयरपोर्ट पर तैनात इंडियन ऑयल का मैनेजर रोहित तिवारी दिल्ली निवासी है, वहीं श्वेता कानपुर की रहने वाली थी। रोहित तिवारी ने अपनी पत्नी श्वेता तिवारी और 21 महीने के बेटे की सिर्फ इसलिए हत्या कर दी थी ताकि वो फिर से शादी करके एक नई जिंदगी की शुरुआत कर सके। जब पुलिस ने उससे कड़ी पूछताछ की तो आरोपी ने अपना गुनाह कबूल लिया।

दोनों के बीच होती थी अनबन

जानकारी के मुताबिक, शादी के बाद रोहित और उसकी पत्नी के विचार नहीं मिल रहे थे। उनकी रोजाना किसी न किसी बात को लेकर अनबन हुआ करती थी। रोजाना से झगड़े से परेशान होकर रोहित ने यह प्लान बनाया कि, ‘अपनी पास्ट हिस्ट्री को मिटाकर यानी अपनी पत्नी और बेटे को मार कर वह फिर से शादी करेगा और अपनी नई जिंदगी की शुरुआत करेगा। बस इसीलिए उसने भाड़े के कॉन्ट्रैक्ट किलर सौरव चौधरी को बुलाकर मूसली से पत्नी और 21 महीने के बेटे श्रीयम की हत्या कर दी।’

बच्चे कारण दूसरी शादी में आती अड़चन

पुलिस के लिए भी यह मामला सुलझाना आसान नहीं था। पुलिस को रोहित पर शक तो जरूर हुआ था लेकिन वह ये भी सोच रही थी कि आखिर कोई पिता अपने 21 महीने की बेटे को कैसे मार सकता है? आरोपी को कहना है कि, वह एक ट्रेडिशनल परिवार से है और ऐसे परिवार में यदि पहले पत्नी से बच्चा रहता है तो दूसरी शादी में अड़चन आती है। आरोपी ने यह भी बताया कि, ‘पत्नी की हत्या के बाद उसने पास के एक मोबाइल की दुकान से 700 रुपए का मोबाइल खरीदा और पुलिस को भटकाने के लिए उसमें नया सिम डालकर बच्चे की फिरौती की बात करने लगा।’

कैसे हुई थी हत्या

यूनिक टॉवर अपार्टमेंट में मंगलवार को श्वेता की नृशंस हत्या कर दी गई थी। जबकि श्रीयम का शव बुधवार को अपार्टमेंट के पीछे झाड़ियों में पड़ा मिला था।
जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव के मुताबिक, रोहित ने अपने परिचित के साले सौरभ उर्फ राजसिंह से श्वेता और श्रीयम की हत्या करवाई। सौरभ का रोहित के घर पर आना-जाना था। मंगलवार को साजिश के तहत सौरभ अकेले रोहित के फ्लैट पर पहुंचा। परिचित होने के नाते श्वेता ने उसको अंदर बैठाया और चाय भी पिलाई। मौका मिलते ही सौरभ ने लोहे के हथियार (मसाला कूटने वाला मूसल) से श्वेता के सिर और चेहरे पर कई बार वार किया। फिर उसने इसी हथियार से श्रीयम को भी मार डाला। इसके बाद हत्यारे ने श्रीयम के शव को चादर में लपेटकर अपार्टमेंट के पीछे फेंक दिया।

पुलिस को गुमराह करने की साजिश

सौरभ के साथ मिलकर रोहित ने श्वेता की हत्या के बाद श्रीयम का अपहरण दिखाने का प्रयास किया। दोनों की हत्या के बाद सौरभ श्वेता का मोबाइल भी ले गया, मोबाइल में पेटर्न लॉक होने के कारण उसमें से सिम कार्ड निकालकर उसने सांगानेर से नया मोबाइल खरीदकर उसमें लगा ली। योजना के मुताबिक, उसी नंबर से उसने 30 लाख की फिरौती के लिए रोहित को उस समय मैसेज किया, जब वह पुलिस के साथ फ्लैट में मौजूद था।

पूरे दिन ऑफिस में रहा

घटनाक्रम वाले दिन रोहित पूरे दिन ऑफिस में रहा। पुलिस ने जब इस बारे में जांच की तो उसकी लोकेशन फ्लैट से दूर आ रही थी। फिर पुलिस ने जांच के दौरान गुरुवार देर रात सौरभ को पकड़ा तो उसने पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया। जब पुलिस ने रोहित और सौरभ दोनों का आमना-सामना कराया तो इस पूरे मामले का खुलासा हो गया और रोहित ने अपना अपराध कबूल कर लिया। अब पुलिस सौरभ के जीजा हरि सिंह को भी गिरफ्तार करने में जुटी हुई है।

ये भी पढ़े…

जमीनी विवाद में बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, बहू पर फेंका तेजाब

प्रयागराज: आपसी रंजिश में एक ही परिवार के 5 लोगों की गला रेतकर हत्या, मासूम बच्चों को भी नहीं छोड़ा

प्यार पाने के लिए हदें पार, बहू ने प्रेमी के साथ मिलकर सास पर छोड़ा सांप

 

Related posts