जम्मू: पहली बार देश में सैन्य ठिकानों पर हुआ ड्रोन से हमला, जांच जारी, कई इलाकों में हाई अलर्ट

चैतन्य भारत न्यूज

जम्मू हवाईअड्डे के अत्यधिक सुरक्षा वाले तकनीकी क्षेत्र में देर रात पांच मिनट के अंतराल में दो विस्फोट हुए। सूत्रों ने बताया कि इन धमाकों के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया गया था। ये धमाका कैसे हुआ और किसने किया? इसकी जांच की जा रही है, लेकिन अब तस्वीर इस धमाके को एक आतंकी हमले की साजिश की ओर धकेल रही है। इस धमाके के बाद अम्बाला, पठानकोट और अवंतिपुरा एयरबेस को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है।

सभी एयरक्रॉप्ट और हेलीकॉप्टर सुरक्षित

जानकारी के मुताबिक, पहला धमाका रात 1:37 बजे हुआ और दूसरा ठीक 5 मिनट बाद 1:42 बजे हुआ। वायुसेना का कहना है कि दोनों ही धमाकों की इंटेसिटी बहुत कम थी और पहला धमाका छत पर हुआ, इसलिए छत को नुकसान पहुंचा है, लेकिन दूसरा धमाका खुली जगह पर हुआ। धमाके में दो जवानों को भी मामूली चोटें आई हैं। सूत्रों ने बताया कि जहां पर ब्लास्ट हुआ, वो जगह MI17 V 5 Hanger के बेहद नजदीक है, इसलिए कहा जा सकता है कि धमाके का इरादा विमान या हेलीकॉप्टरों को नुकसान पहुंचाने के लिए हो सकता है। हालांकि, फिलहाल सभी एयरक्रॉप्ट और हेलीकॉप्टर सुरक्षित है। इन विस्फोटों में भारतीय वायु सेना (IAF) के दो जवानों को मामूली चोटें आई हैं। भारतीय वायु सेना (IAF) का एक उच्च स्तरीय जांच दल शीघ्र ही जम्मू पहुंचेगा।

पी-16 ड्रोन के जरिए कराए गए धमाके

बताया जा रहा है कि इस साजिश को अंजाम देने के लिए पी-16 ड्रोन का इस्तेमाल किया गया है। ये ड्रोन काफी नीचे उड़ सकता है। इसकी वजह से कई बार यह रडार की नजर से भी बच जाता है। सूत्रों का कहना है कि ड्रोन का संभावित लक्ष्य म्यूजियम बिल्डिंग और एयरक्राफ्ट था।


 

Related posts