गोवा में 90 लोगों पर जेलीफिश ने किया हमला, जानिए इस जहरीली मछली के बारे में

चैतन्य भारत न्यूज

गोवा में समंदर के किनारों की खूबसूरती देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग आते हैं। लेकिन अब गोवा के बीच पर मस्ती करना भारी पड़ सकता है। गोवा के बीचों पर जहरीली जेलीफिश का आतंक बढ़ गया है। बीते कुछ दिनों में 90 लोगों को जेलीफिश ने डंक मारा है। इन लोगों का तत्काल इनका इलाज किया गया।

इस जहरीली मछलियों की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल भी हो रही थीं। दरअसल, पिछले दिनों गोवा के बागा-कैलंग्यूट बीच पर जेलीफिश का शिकार होने के कई मामले सामने आए। जिसमें जहरीली जेलीफिश का शिकार हुए लोगों को प्राथमिक उपचार की आवश्यकता पड़ी। जेलीफिश के संपर्क में आने पर शरीर में दर्द होता है और ये जिस बॉडी पार्ट के टच में आती हैं वो सुन्न हो जाता है। इसके अलावा कई केस में इनके टच की वजह से बहरेपन की भी शिकायत मिली है।

जेलिफिश दो प्रकार की होती हैं। सामान्य और जहरीली। ज्यादातर जेलीफिश लोगों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती है, उनके संपर्क में आने से मामूली जलन होती है, लेकिन बहुत ही कम मामलों में जेलीफिश के संपर्क में आने से लोगों को नुकसान पहुंचता है। जेलीफिश सबसे जहरीले समुद्री जीवों में से एक होती हैं। लेकिन इनमें से एक प्रजाति बेहद खतरनाक है। इस प्रजाति की जेलीफिश ऑस्ट्रेलिया और इंडो-पैसिफिक समुद्र में मिलती है। ये चौकोर डिब्बे जैसे दिखते हैं।

जेलीफिश के शरीर में 95 फीसदी पानी ही होता है। ये ढांचागत प्रोटीन, मांसपेशियों और तंत्रिका तंत्र से बनी होती हैं। लेकिन ये सब मिलाकर इनके शरीर का सिर्फ 5 फीसदी हिस्सा ही बनता है। बाकी शरीर में 95% पानी होता है, जबकि इंसानों के शरीर में 60 फीसदी पानी होता है।

जेलीफिश की 25 प्रजातियां खाई भी जाती है

दुनियाभर में जेलीफिश की 25 प्रजातियां है जिनका उपयोग बतौर व्यंजन किया जाता है। इनकी सलाद, अचार बनता है। साथ ही उनका उपयोग नूडल्स के साथ ज्यादा होता है। लोग कहते हैं इनका व्यंजन बनाते समय नमक की जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि ये खुद बहुत नमकीन होती हैं।

Related posts