संतान की मंगल कामना के लिए महिलाएं आज करें जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व और नियम

jitiya vrat 2019, jivitputrika vrat ,jitiya vrat ka mahatav and puja vidhi ,jitiya vrat shubh muhurat

चैतन्य भारत न्यूज

हिंदू धर्म में जितिया व्रत का काफी महत्व है। इसे जीवित्‍पुत्रिका व्रत भी कहा जाता है। यह व्रत महिलाएं संतान की मंगल कामना के लिए करती हैं। इस बार जितिया व्रत 21 सितंबर को पड़ रहा है। आइए जानते हैं जितिया व्रत का महत्व और पूजा-विधि।



jitiya vrat 2019, jivitputrika vrat ,jitiya vrat ka mahatav and puja vidhi ,jitiya vrat shubh muhurat

जितिया व्रत का महत्व

अपने पुत्र की मंगल कामना करते हुए महिलाएं जितिया व्रत का उपवास रखती हैं। यह व्रत उत्तर भारत विशेषकर उत्तर प्रदेश और बिहार में प्रचलित है। पड़ोसी देश नेपाल में भी महिलाएं बढ़-चढ़ कर इस व्रत को करती हैं। यह व्रत अश्विन मास की सप्तमी से शुरू होकर तीन दिन तक चलता है। इस दौरान अपने संतान की लंबी उम्र की कामना और खुशहाल जीवन के लिए माताएं कुछ भी ग्रहण नहीं करती है।

jitiya vrat 2019, jivitputrika vrat ,jitiya vrat ka mahatav and puja vidhi ,jitiya vrat shubh muhurat

जितिया व्रत के नियम 

  • हिंदू धर्म में पूजा-पाठ के दौरान आमतौर पर मांसाहार का सेवन करना वर्जित माना जाता है। लेकिन बिहार के कई क्षेत्रों में जितिया व्रत के उपवास की शुरुआत मछली खाने से होती है।
  • इस दौरान गेंहू की जगह मरुए के आटे से बनी रोटी बनाने की भी परंपरा काफी प्रचलित है। ऐसा करना बेहद शुभ माना जाता है।
  • जितिया व्रत का तीसरा दिन काफी महत्वपूर्ण माना गया है। इस दिन व्रत का पारण करने के बाद भोजन ग्रहण किया जाता है।

ये भी पढ़े…

सितंबर महीने में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज-त्योहार, जानिए कब से शुरू हो रही नवरात्रि

ब्राह्मणों को श्राद्ध का भोजन कराने के दौरान भूलकर भी न करें ये गलतियां

सबसे पहले इन्होंने किया था श्राद्ध, जानिए इसकी शुरुआत की कहानी

Related posts