इस शिव मंदिर में हजारों लीटर जल चढ़ाने के बावजूद बाहर नहीं आता जल, दिन में तीन बार रंग बदलते हैं महादेव

samujheshwar mahadev

चैतन्य भारत न्यूज

देशभर में भगवान शंकर के कई ऐसे मंदिर हैं जो अपने आप में चमत्कारी है। हम आपको आज एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो राजस्थान के जोधपुर के धुंधाड़ा कस्बे में स्थित है। इस मंदिर का नाम है समुझेश्वर महादेव जहां हजारों लीटर जल चढ़ाने के बाद भी जल बाहर नहीं आता है। साथ ही यह शिवलिंग दिन में तीन बार अपना रंग बदलता है।


इस रहस्यमयी मंदिर में 5 घंटों तक भगवान शिव के पास बैठा रहता है सांप

ग्रामीणों का कहना है कि इस मंदिर का शिवलिंग 40 फीट तक गहरा है। शिवलिंग पर यदि एक साथ हजार घड़ों से भी पानी चढ़ाया दिया जाए तो भी यह कभी भी बाण से बाहर नहीं आता है। मंदिर के बारे में मान्यता है कि जब भगवान प्रसन्न होते हैं तो एक लोटे से भी पानी चढ़ाया जाए तो बाहर आने लगता है। इस मंदिर में भक्तों की सभी मन्नतें पूरी होती हैं। हर साल शिवरात्रि पर इस मंदिर में 20 किलो आटे से एक रोट बनाया जाता है। उस रोट में महज 750 ग्राम घी और 750 ग्राम गुड़ डाला जाता है। लेकिन फिर भी रोट घी से लदालद और एकदम मीठा बनता है।

भगवान शिव के इस रहस्यमयी मंदिर में चढ़ाने के बाद दूध सफेद से हो जाता है नीला

ग्रामीणों का कहना है कि सूर्य की पहली किरण इस शिवलिंग के ऊपर पड़ती है। सुबह यह शिवलिंग भूरे रंग का दिखता है, दोपहर में यह सफेद रंग और रात में यह पूरे काले रंग का दिखने लगता है। इस मंदिर की महिमा देशभर में है। यहां जोधपुर नरेश गजसिंह, क्रिकेट खिलाड़ी गौतम गंभीर, रूद्र प्रताप सिंह और समाजवादी पार्टी के नेता अमर सिंह समेत देश की नामी हस्तियां रुद्राभिषेक कर आशीर्वाद लेने अक्सर आती रहती हैं।

ये भी पढ़े…

ये है भगवान गणेश का अनोखा मंदिर, जहां चोर करते थे चोरी के माल का बंटवारा, बप्पा को भी देते थे हिस्सा

शाकाहारी मगरमच्छ करता है इस मंदिर की रखवाली, खाता है सिर्फ प्रसाद

इन मंदिरों में होती है गणपति बप्पा की स्त्री अवतार में पूजा, दर्शन मात्र से दूर हो जाते हैं सारे कष्ट

ये हैं भगवान गणेश का ऐसा अनोखा मंदिर जहां लगातार बढ़ रहा है मूर्ति का आकार

देश का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां गजमुख नहीं बल्कि इंसान के रूप विराजमान हैं भगवान गणेश

ये हैं दुनिया का सबसे अनोखा मंदिर, जहां भक्तों को प्रसाद में मिलते हैं गहने और सोने-चांदी के सिक्के

 

Related posts