कमलनाथ ने भाजपा नेता इमरती देवी को कहा ‘आइटम’, विरोध में सीएम शिवराज ने शुरू किया मौन धरना

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. मध्य प्रदेश में उपचुनाव के लिए राजनीतिक दलों का प्रचार जारी है। इसी बीच रविवार को आयोजित एक रैली के दौरान प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने डबरा से भाजपा की प्रत्याशी इमरती देवी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर दी। कमलनाथ ने इमरती देवी काे आइटम कहकर संबोधित किया। जिसके बाद राज्य में सियासी घमासान शुरू हो गया।

कमलनाथ ने कहा, ‘हमारे राजे (कांग्रेस प्रत्याशी) तो सीधे-साधे और सरल हैं। ये उसके जैसे नहीं हैं। मैं क्यों उसका नाम लूं।’ इतने में लोग बोले- इमरती देवी। इस पर हंसते हुए कमलनाथ बोले,’आप लोग मेरे से ज्यादा उसको पहचानते हैं। आप लोगों को तो मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था। वह क्या आइटम है।’ पूर्व मुख्यमंत्री के भाषण का यह वीडियो अब वायरल हो गया है।


मामला चर्चा में आने के बाद ग्वालियर की सभा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ के बयान की निंदा की। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कमलनाथ ने अन्याय की अति की है। ग्वालियर जिले की एक बेटी का अपमान किया। शर्म आनी चाहिए। किस दिशा में राजनीति को ले जा रहे हो।’ साथ ही सीएम शिवराज ने कहा कि, वे इमरती देवी के सम्मान में सोमवार को भोपाल में सुबह 10 बजे से 12 बजे तक मौन पर बैठेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपराध किया है, प्रायश्चित वर्तमान मुख्यमंत्री करेगा। इंदौर में इस धरने का नेतृत्व राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया करेंगे।


इमरती देवी से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, ‘क्या मेरे कसूर है कि मैं एक गरीब के घर में पैदा हुई हूं? क्या मेरे कसूर है कि मैं गरीब हूं? मैं एक हरिजन हूं? एससी हूं? मैं दलित महिला हूं और मैं महिला हूं?’ मीडिया से बातचीत करते हुए इमरती देवी रुआंसी हो गईं। उन्होंने आगे कहा, ‘अगर गरीब को पैदा होना इतना ही कसूरवार होता है तो शायद मैं सोचती हूं कि कमलनाथ ने जो बात कही है तो हमारी हिंदुस्तान की, मध्य प्रदेश की एक भी महिला एससी दलित की बाहर नहीं निकलेगी।’ साथ ही इमरती देवी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कमलनाथ को पार्टी से बाहर करने का निवेदन किया।

Related posts