मध्य प्रदेश: कमलनाथ ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा

kamal nath

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. मध्यप्रदेश में सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस्तीफे का ऐलान किया। बता दें सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश विधानसभा स्पीकर को आज 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट करवाने का निर्देश दिया था लेकिन इससे पहले ही कमलनाथ ने मुख्यमंत्री का पद छोड़ दिया।



16 बागी विधायकों के इस्तीफे मंजूर

देर रात विधानसभा सचिवालय ने विधानसभा की कार्यवाही की सूची जारी की। इसमें फ्लोर टेस्ट का भी जिक्र किया गया है। कार्य सूची के मुताबिक, दोपहर 2 बजे विश्वास प्रस्ताव पर मत विभाजन होगा। बता दें मप्र विधानसभा स्पीकर एनपी प्रजापति ने गुरुवार रात करीब 12 बजे बेंगलुरु में ठहरे कांग्रेस के 16 बागी विधायकों के इस्तीफे को स्वीकर कर लिया है।

शिवराज सिंह चौहान का बयान

फ्लोर टेस्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट का आदेश आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि, ‘सुप्रीम कोर्ट से जो फैसला आया है वह संविधान के तहत है और इसी फैसले का वह इंतजार कर रहे थे। मध्य प्रदेश की मौजूदा कमलनाथ सरकार अल्पमत की सरकार थी और वह कोशिश कर रहे थे कि किसी भी सूरत में फ्लोर टेस्ट को टाला जा सके जिससे कि जो विधायक उनके साथ नहीं है उनको भी किसी भी तरह अपने साथ जोड़ने का मौका मिल सके। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले से अब साफ हो गया है की विधानसभा के पटल पर कमलनाथ सरकार अल्पमत वाली सरकार साबित होगी और बीजेपी के सरकार सत्ता में वापसी करेगी।’

SC के फैसले से निराश नहीं : कमलनाथ

सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर कमलनाथ ने कहा था कि, ‘सुप्रीम कोर्ट के फैसले से हम निराश नहीं हैं। हम आज भी एकजुट हैं। भाजपा ने हमारे विधायकों को कर्नाटक में बंधक बनाकर एक गंदा खेल खेला है। हमारे जनता के लिए किए गए कामों से बौखलाकर हमें अस्थिर करने के लिए भाजपा ने सब किया है। हम हर चुनौती का सामना करेंगे।’

ये भी पढ़े…

मप्र: आज कमलनाथ सरकार की अग्नि परीक्षा, 16 बागी विधायकों के इस्तीफे मंजूर

दिग्विजय सिंह के एक ट्वीट से शुरू हुआ MP में पॉलिटिकल ड्रामा, जानें सियासी संग्राम के बारे में सबकुछ

मप्र: फ्लोर टेस्ट की मांग पर SC ने कमलनाथ सरकार को भेजा नोटिस

कांग्रेस के बागी विधायकों ने की प्रेस कांफ्रेंस, कहा- सीएम कमलनाथ घमंड में आ गए, हमें मजबूरी में साथ छोड़ना पड़ा

मप्र: सीएम कमलनाथ को राज्यपाल की चेतावनी- कल तक साबित करें बहुमत, वरना अल्पमत मानेंगे

Related posts