विकास दुबे का दाहिना हाथ कहे जाने वाले चचेरे भाई अमर दुबे को STF ने मार गिराया, पुलिस ने रखा था 25 हजार का इनाम

चैतन्य भारत न्यूज

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर एनकाउंटर केस में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। मोस्ट वांटेड बदमाश विकास दुबे की तलाशी के दौरान उसके चचेरे भाई अमर दुबे को हमीरपुर में यूपी एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) ने मार गिराया है। अमर को विकास दुबे का दाहिना हाथ कहा जाता है।

विकास का पर्सनल बॉडी गार्ड था अमर

जानकारी के मुताबिक, अमर भागने की कोशिश कर रहा था, तभी पुलिस ने उसे ढेर कर दिया। कानपुर कांड में आठ पुलिसकर्मियों को मारने में अमर दुबे का भी हाथ था। अमर ने छत से पुलिसकर्मियों पर फायरिंग की थी। अमर को विकास दुबे गैंग का शातिर बदमाश माना जाता है।
2 जुलाई की रात कानपुर देहात के बिकरू गांव में शूटआउट के मामले में भी अमर दुबे की तलाश थी। यूपी पुलिस ने जिन अपराधियों की तस्वीरें जारी की थी, उसमें अमर दुबे का नाम सबसे ऊपर था। उस पर पुलिस ने 25 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमर विकास के पर्सनल बॉडी गार्ड का भी काम करता था। वो हमेशा असलहे से लैस रहता था। अमर दुबे की इसी 29 जून को शादी हुई थी।

पुलिस ने ऐसे किया एनकाउंटर

हमीरपुर के एसपी श्लोक कुमार ने बताया कि अमर दुबे की छिपे होने की सूचना पर पुलिस टीम ने घेराबंदी की थी। इस दौरान अमर ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी एनकाउंटर में वह मार गिराया गया। उसके पास से एक ऑटोमेटिक हथियार और बैग मिला है। इस एनकाउंटर में एसओ और एसटीएफ के एक कॉन्स्टेबल को गोली लगी है।

विकास का अब तक नहीं मिला कोई सुराग

हालांकि, विकास दुबे की तलाश में जुटी उत्तर प्रदेश की कई पुलिस टीमों को अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिल पाया है। दावा किया जा रहा है कि विकास और उसके दो साथियों को फरीदाबाद के एक होटल के बाहर देखा गया था। लेकिन पुलिस के आने से पहले ही अपराधी फरार हो गए। पुलिस को सीसीटीवी फुटेज भी मिली है। पुलिस ने प्रभात और अंकुर नाम के विकास के दो करीबियों को गिरफ्तार कर लिया है। अंकुर के बारे में बताया जाता है कि उसी ने फरीदाबाद में विकास दुबे के छिपने में मदद की थी। वो विकास दुबे के लिए होटल बुक करने की कोशिश कर रहा था।

Related posts