इसलिए करवा चौथ पर चांद को छलनी से निहारती हैं सुहागिन महिलाएं

karwa chauth 2019 ,karwa chauth,women look at the moon through a sieve

चैतन्य भारत न्यूज

करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। इस बार करवा चौथ व्रत 17 अक्टूबर को पड़ रहा है। इस दिन सुहागिन महिलाएं ना सिर्फ व्रत करती है बल्कि पूरे साज और 16 श्रृंगार के साथ चांद की पूजा भी करती हैं। चांद को अर्घ्य देने के बाद वो छलनी से चांद को देखती हैं और फिर उसी छलनी से अपने पति की सूरत निहारती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि करवा चौथ पर चांद को छलनी से क्यों देखा जाता है? अगर नही तो चलिए जानते हैं इसके पीछे की वजह।



karwa chauth 2019 ,karwa chauth,women look at the moon through a sieve

इसलिए देखा जाता छलनी से चांद

हिंदू धर्म के मुताबिक, चांद को ब्रह्मा का प्रतीक माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि चांद के वरदान से इंसान को लंबी आयु मिलती है। चांद को सुंदरता, शीतलता, प्यार, सिद्धी और प्रसिद्धी के लिए पूजा जाता है। इसलिए करवा चौथ पर सुहागिन महिलाएं छलनी से पहले चांद देखती हैं फिर अपने पति का चेहरा। वह चांद को देखकर यह कामना करती हैं कि उनके पति में भी चांद जैसे सारे गुण आ जाएं।

karwa chauth 2019 ,karwa chauth,women look at the moon through a sieve

पौराणिक कथा

पौराणिक कथा के मुताबिक, प्राचीन काल में एक साहूकार था जिसके सात पुत्र और एक पुत्री थी। बड़े होने पर साहूकार ने अपनी पुत्री का विवाह कर दिया। विवाह के बाद उसकी पुत्री ने अपने पति की लंबी आयु के लिए करवा चौथ का व्रत रखा। रात में जब उसके सभी भाई भोजन करने बैठे तब उन्होंने अपनी बहन से भी साथ बैठकर भोजन करने के लिए कहा। तब बहन ने कहा कि, चांद निकलने पर उसे अर्घ्य देकर मैं भोजन करुंगी।

karwa chauth 2019 ,karwa chauth,women look at the moon through a sieve

भाइयों से बहन की ऐसी हालत देखी नहीं गई तो उन्होंने चांद के निकलने से पहले ही एक पेड़ पर चढ़कर छलनी के पीछे एक जलता हुआ दीपक रखकर बहन से कहा कि, चांद निकल आया है। बहन ने भाइयों की बात मान ली और दीपक को चांद समझकर अपना व्रत खोल लिया और व्रत खोलने के बाद उनके पति की मुत्यु हो गई और ऐसा कहा जाने लगा कि असली चांद को देखे बिना व्रत खोलने की वजह से ही उनके पति की मृत्यु हुई थी। ऐसा छल किसी और सुहागिन के साथ ना हो इसलिए छलनी से दीया रखकर चांद देखने की प्रथा शुरू हुई।

ये भी पढ़े…

आखिर क्यों करवा चौथ पर चंद्रमा को दिया जाता है अर्घ्य? जानिए इसके मंत्र और लाभ

सुहागिन महिलाएं करवा चौथ पर भूलकर भी न करें ये गलतियां

सुहागिन महिलाओं के लिए बेहद खास है इस बार का करवा चौथ, 70 साल बाद बन रहा है यह अद्भुत संयोग

 

Related posts