मां की स्मृति में 19 साल पहले बनवाया था चौथ माता मंदिर, साल में सिर्फ एक बार खुलते हैं पट

karwa chauth 2019 ,karwa chauth mata mandir,ujjain,indore,,jivan khedi ganv karwa chauth mata mandir

चैतन्य भारत न्यूज

सुहागिन महिलाओं का खास पर्व करवा चौथ इस बार 17 अक्टूबर (गुरूवार) को है। इस व्रत में चौथ माता की पूजा की जाती है और उनका आशीर्वाद लिया जाता है। चौथ माता हिंदू धर्म की प्रमुख देवी मानी जाती है, जो स्वयं माता पार्वती का ही एक रूप है। चौथ माता के कई मंदिर भी है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे ही मंदिर के बारे में जो इंदौर-उज्जैन फोरलेन से लगे उन्हेल बायपास के समीप जीवनखेड़ी गांव में खेत के बीचो बीच बना हुआ है।



यह मंदिर डॉक्टर कैलाश नागवंशी ने अपनी मां लक्ष्मीदेवी की स्मृति में बनवाया था। शिप्रा किनारे अपनी निजी जमीन पर बनाया यह मंदिर साल में केवल करवा चौथ के दिन ही खोला जाता है। कहा जाता है कि इस मंदिर में चौथ माता के अलावा सास-बहू व बहन-भाई मंदिर भी है।डॉक्टर कैलाश नागवंशी के मुताबिक, निजी जमीन पर मां की याद में यह मंदिर साल 2000 में बनवाया था। साल में एक बार करवा चौथ पर मंदिर खुलने के दौरान यहां ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं दर्शन व कथा सुनने आती हैं। जानकारी के मुताबिक, करवा चौथ पर यहां सुबह 9 से शाम 5 बजे तक पंडित रामानंद शर्मा करवा चौथ की कथा सुनाते हैं।

इस मंदिर के भीतर ही सास-बहू यानी पार्वती और ऋद्धि-सिद्धि की प्रतीमा तथा भाई-बहन यानी शुभ-लाभ और संतोषी माता की प्रतीमा भी है। कहा जा रहा है कि इस मंदिर में आने जाने के लिए नया रास्ता भी बनवाया जा रहा है। रास्ते के अतिक्रमण हटाने के लिए प्रशासन को आवेदन दिया है। इस मंदिर का निर्माण कैलाश नागवंशी ने स्वयं के खर्च से कराया है।

ये भी पढ़े…

सुहागिन महिलाओं के लिए बेहद खास है इस बार का करवा चौथ, 70 साल बाद बन रहा है यह अद्भुत संयोग

ये है भगवान गणेश का अनोखा मंदिर, जहां चोर करते थे चोरी के माल का बंटवारा, बप्पा को भी देते थे हिस्सा

ये हैं भगवान गणेश का ऐसा अनोखा मंदिर जहां लगातार बढ़ रहा है मूर्ति का आकार

 

Related posts