सुहागिन महिलाओं के लिए बेहद खास है इस बार का करवा चौथ, 70 साल बाद बन रहा है यह अद्भुत संयोग

karva chauth, karva chauth 2019, karva chauth fast, karva chauth vrat ka tarika, karwa chauth, karwa chauth 2019,

चैतन्य भारत न्यूज

करवा चौथ सुहागिन महिलाओं का सबसे बड़ा पर्व है। इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं और रात में चांद देखने के बाद अपना व्रत खोलती हैं। इस बार करवा चौथ व्रत 17 अक्टूबर (गुरुवार) को पड़ रहा है। कहा जा रहा है कि इस करवा चौथ बेहद ही शुभ संयोग बन रहा है जिसके चलते सुहागिन महिलाओं को विशेष लाभ प्राप्त होगा। आइए जानते हैं करवा चौथ व्रत के इस दुर्लभ संयोग के बारे में।



karva chauth, karva chauth 2019, karva chauth fast, karva chauth vrat ka tarika, karwa chauth, karwa chauth 2019,

करवा चौथ का शुभ संयोग

इस बार करवा चौथ पर पूरे 70 साल बाद मंगल योग बन रहा है। ज्‍योतिषियों का कहना है कि साल 2019 के करवा चौथ में रोहिणी नक्षत्र के साथ मंगल का योग है, जिसे बेहद फलदाई माना जाता है। रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा में रोहिणी का योग होने से मार्कण्डेय और सत्याभामा योग इस करवा चौथ पर बन रहा है।

karva chauth, karva chauth 2019, karva chauth fast, karva chauth vrat ka tarika, karwa chauth, karwa chauth 2019,

खास बात यह है कि पहली बार करवा चौथ का व्रत रखने वाली महिलाओं के लिए ये व्रत बहुत अच्छा है। ज्‍योतिषियों के मुताबिक, यह योग चंद्रमा की 27 पत्नियों में सबसे प्रिय पत्नी रोहिणी के साथ होने से बन रहा है। जिसके चलते पति के लिए व्रत रखने वाली सुहागिनों के लिए यह फलदायी होगा। ऐसा योग भगवान श्री कृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय ही बना था।

karva chauth, karva chauth 2019, karva chauth fast, karva chauth vrat ka tarika, karwa chauth, karwa chauth 2019,

करवा चौथ पूजन सामग्री 

करवा चौथ के व्रत की पूजन सामग्री में पानी का लोटा, गंगाजल, दीपक, रूई, अगरबत्ती, चंदन, कुमकुम, रोली, अक्षत, फूल, कच्‍चा दूध, दही, देसी घी, शहद, चीनी,  हल्‍दी, चावल, मिठाई, चीनी का बूरा, मेहंदी, महावर, सिंदूर, कंघा, बिंदी, चुनरी, चूड़ी, बिछुआ, गौरी बनाने के लिए पीली मिट्टी, लकड़ी का आसन, छलनी, आठ पूरियों की अठावरी, हलुआ और दक्षिणा के पैसे शामिल करना जरुरी है।

ये भी पढ़े…

सुहागिन महिलाएं करवा चौथ पर भूलकर भी न करें ये गलतियां

कब है करवा चौथ? जानिए व्रत की पूजा-विधि और चांद निकलने का समय

Related posts