मुजफ्फरनगर दंगा: कवाल हत्‍याकांड के 7 दोषियों को उम्रकैद की सजा

चैतन्य भारत न्यूज।

मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर दंगे के कवाल हत्‍याकांड में शुक्रवार को जिला अदालत ने दोषियों की सजा का ऐलान कर दिया है। अपर जिला सत्र न्यायाधीश हिमांशु भटनागर ने हत्याकांड और दंगों के 7 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही सभी आरोपियों पर 2-2 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। कोर्ट के इस फैसले को लेकर जिला प्रशासन पहले से ही तैयार था। प्रशासन ने धारा 144 लगाने के साथ ही कोर्ट परिसर की सुरक्षा भी बढ़ा दी थी।

जानिए पूरा मामला
अदालत ने यह सजा कवाल हत्याकांड में मृतक गौरव और सचिन की हत्या के आरोपियों को सुनाई है। मुजफ्फरनगर जिले में सांप्रदायिक दंगा इन्‍हीं दोनों की हत्‍या के बाद भड़का था। बता दें कि 27 अगस्त 2013 को मुजफ्फरनगर की जानसठ तहसील के कवाल गांव में सचिन और गौरव नाम के दो युवकों और आरोपियों में मोटरसाइकिल की टक्कर के बाद विवाद हो गया था। इसमें दोनों युवकों की हत्या कर दी गई थी इसके अलावा आरोपी पक्ष के शाहनवाज की भी इस दौरान मौत हो गई थी। तब गौरव के पिता रविन्द्र ने सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। सात सितंबर को जिलेभर में सांप्रदायिक दंगा भड़क गया था। इसमें 60 से अधिक लोगों की जान चली गई थी।

इन आरोपों में कोर्ट ने ठहराया दोषी 
सचिन व गौरव की हत्या के मामले में मुकदमे की सुनवाई पूरी कर एडीजे-7 हिमांशु भटनागर की अदालत ने बुधवार को इस मामले में आरोपित कवाल निवासी मुजस्सिम, मुजम्मिल, फुरकान, नदीम, जहांगीर, इकबाल व अफजल को हत्या, घातक हथियारों से लैस होकर हमला, जान से मारने की धमकी देने और विधि विरुद्ध जमाव के आरोपों में दोषी ठहराया था।

Related posts