शुभ मुहूर्त में खुले कपाट, 11 क्विंटल फूलों से सजाया गया बाबा का दरबार, भक्तों कि एंट्री बंद

चैतन्य भारत न्यूज

विश्व प्रसिद्ध भगवान केदारनाथ धाम के कपाट विधि विधान और पूजा-अर्चना के बाद खुल गए हैं। सोमवार को 5 बजे विधि-विधान पूर्वक बाबा केदार के कपाट खुले। केदारनाथ यात्रा के इतिहास में यह दूसरा मौका है जब मंदिर के कपाट खुलने के अवसर पर मंदिर परिसर पूरी तरह खाली रहा। हर वर्ष कपाट खुलने के दौरान हजारों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहते हैं लेकिन पिछले दो साल से कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण कपाट खुलने के दौरान महज 15-16 लोग ही मौजूद रहे। इस बार मंदिर परिसर में भक्तों के बम-बम भोले के जयघोषों की गूंजों की कमी खली।

सीएम तीरथ सिंह रावत का ट्वीट

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने ट्विटर पर जानकारी देते हुए लिखा, ‘विश्व प्रसिद्ध ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग भगवान केदारनाथ धाम के कपाट आज सोमवार को प्रातः 5 बजे विधि-विधान से पूजा-अर्चना और अनुष्ठान के बाद खोल दिए गए। मेष लग्न के शुभ संयोग पर मंदिर का कपाटोद्घाटन किया गया। मैं बाबा केदारनाथ से सभी को निरोगी रखने की प्रार्थना करता हूं।’

उन्होंने आगे लिखा कि, ‘केदारनाथ के रावल (मुख्य पुजारी) आदरणीय श्री भीमाशंकर लिंगम् जी की अगुवाई में तीर्थ पुरोहित सीमित संख्या में मंदिर में बाबा केदार की पूजा-अर्चना नियमित रूप से करेंगे। मेरा अनुरोध है कि महामारी के इस दौर में श्रद्धालु घर में रहकर ही पूजा-पाठ और धार्मिक परंपराओं का निर्वहन करें।’

11 क्विंटल फूलों से सजा मंदिर

इस अवसर पर मंदिर को 11 क्विंटल फूलों से सजाया गया था। सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष तौर से ध्यान रखा गया। बता दें कोरोना महामारी के चलते चारधाम यात्रा को अस्थायी रूप से स्थगित की जा चुकी है। हालांकि, नित्यनियम से पूजा-अर्चना चलती रहेगी। सभी धामों में पूजा पाठ से जुड़े लोगों को अंदर जाने की अनुमति रहेगी।

ये भी पढ़े…

भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है केदारनाथ धाम, जानिए इस ज्योतिर्लिंग का इतिहास और महत्व

बद्रीनाथ धाम: कभी ये हुआ करता था भगवान शिव का निवास स्थल लेकिन विष्णु ने धोखे से कर लिया था कब्जा

मुहूर्त में ही खुलेंगे चार धाम के कपाट, लॉकडाउन के कारण आम जनता नहीं कर सकेगी दर्शन!

Related posts