किसान आंदोलन के 7 महीने पूरे, पंचकूला में प्रदर्शनकारियों ने बैरिकेड्स उखाड़े, हजारों किसानों ने राजभवन की तरफ किया कूच

चैतन्य भारत न्यूज

कृषि कानून रद्द कराने की मांग के लिए शुरू हुए किसान आंदोलन को आज सात महीने पूरे हो गए हैं। इस मौके पर किसानों ने देशभर में आज फिर बड़ा प्रदर्शन बुलाया है। देशभर में किसान राज्यों के राज्यपाल और केंद्र शासित प्रदेशों के उपराज्यपाल से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंप रहे हैं।

शनिवार को चंडीगढ़ में 32 किसान संगठनों ने राजभवन की तरफ कूच किया। दोपहर करीब पौने एक बजे किसान पंचकूला के नाडा साहिब गुरुद्वारा से रवाना हुए। वहीं मोहाली से किसानों ने अंब साहिब से यादविंदर चौक की तरफ कूच किया। इस दौरान किसान नेता रुलदू सिंह ने कहा कि आज के दिन इंदिरा गांधी की तरफ से इमरजेंसी लगाई गई थी। उसे याद करते हुए यह मोर्चा निकाला जा रहा है।

पंचकूला में किसानों ने बैरिकेड्स उखाड़े

हरियाणा के पंचकूला में किसानों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हो गई। चंडीगढ़ में हरियाणा के राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने के लिए हजारों किसान पंचकूला से निकले थे। रास्ते में पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए बैरिकेड्स लगा रखे थे। गुस्साए किसानों ने बैरिकेड्स उखाड़ फेंके और आगे बढ़ गए। सिर्फ बैरिकेडिंग ही नहीं, किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने सीमेंट की बीम भी लगाई थी।

लखनऊ में पुलिस ने रोक दिया

लखनऊ में भी किसान संगठन जब राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने निकले तो पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर बापू भवन से पहले ही उन्हें रोक दिया। हालांकि, बाद में आधा दर्जन से ज्यादा किसान नेता राज्यपाल से मिलकर ज्ञापन सौंपकर आए।

Related posts