प्रयागराज में टिड्डी दल का आतंक, बर्बाद की फसलें, मचा हड़कंप

चैतन्य भारत न्यूज

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज शहर में टिड्डी दल ने दस्तक दे दी है। मंगलवार रात उनकी उपस्थिति प्रयागराज में देखी गई। राजस्थान, पंजाब व मध्य प्रदेश के बाद करीब पखवारे भर पहले टिड्डी दल की फौज यूपी के आगरा, ललितपुर, झांसी में डेरा जमाए हुए थीं। जिसके बाद एकाएक उनका रुख प्रयागराज की तरफ हो गया। अब उनके बिहार पहुंचने की आशंका बढ़ती जा रही है।

हालांकि केंद्रीय एकीकृत नाशी जीव प्रबंधन केन्द्र (सीआईपीएम) इस प्रयास में लगा है कि टिड्डी आगे बिहार की ओर नहीं बढ़ें। बावजूद सरकार ने पहले से अलर्ट पर चल रहे सीमावर्ती दस जिलों के कृषि अधिकारियों को और सतर्क कर दिया है। बीते तीन दिनों से टिड्डी दलों की लोकेशन प्रयागराज के कोरांव में बनी हुई थी। यहां किसानों की फसलों पर वह कहर बरपा रहे थे। प्रशासन की टीम ने टिड्डी दलों के खिलाफ आपरेशन शुरू किया तो वह दो टुकड़ियों में बंट गई।

टिड्डियों का दल यमुनापार के कोरांव इलाके से प्रयागराज के कल्याणपुर इटवा और सोहागी गांव में पहुंचा। उधर झूंसी के छतनाग, मुंशी का पुरा और सोनौटी गांव में भी टिड्डियों के दल को देखा गया। ग्रामीणों ने बताया कि टिड्डियों का दलल तीन से चार किलोमीटर के इलाके में मंडरा रहा था। जब टिड्डियों के काफिले की सूचना संबंधित अधिकारियों की टीम को लगी तो वे प्रभावित इलाके में पहुंच गए। टिड्डियों के बैठने से पहलले ही खेतों में फायरब्रिगेड की गाड़ियों की मदद से कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव किया गया। रासायनिक दवाओं के टैंकर भेजे गए और एहतियातन देर रात तक इनके छिड़काव का काम चलता रहा।

शहर में घुसे टिड्डी दल ने किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया। इसने कुछ गांवों के किसानों की सब्जी की खेती व धान की नर्सरी चट कर ली। हालत यह रही कि टिड्डी दल जिस पेड़ पर बैठता उसकी डालियां टूट कर गिरने लगतीं। झूंसी में इस दल ने आम के बागों को खासा नुकसान पहुंचाया।

यह भी पढ़े…

भारत में टिड्डी दल का बड़ा हमला, एक दिन में खा जाती हैं 10 हाथियों के बराबर खाना, डीजे साउंड-ढोल नगाड़े बजाकर भगा रहे

Related posts