लोकसभा चुनाव 2019 के लिए आचार संहिता लागू , इन कामों पर लगी रोक

चैतन्य भारत न्यूज।

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए तारीखों का ऐलान हो चुका है। चुनाव 7 चरणों में 11 अप्रैल से 19 मई तक होना है। नतीजे 23 मई को आएंगे। चुनाव के ऐलान के साथ ही देशभर में आदर्श आचार संहिता भी लागू हो गई है।

आचार संहिता लगने के बाद सरकारी कामकाजों में कई तरह की रोक लग जाती हैं, जैसे…

  • सरकार अब कोई घोषणा या फिर किसी भी प्रोजेक्ट का शिलान्यास, लोकार्पण या भूमिपूजन नहीं कर सकेगी।
  • सरकारी खर्च पर ऐसा कोई भी आयोजन नहीं किया जा सकता है जिससे किसी पार्टी को लाभ मिले।
  • रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर बजाने पर रोक लगाई गई है।
  • राजनीतिक दलों को सभा के स्थान व समय की पूर्व सूचना पुलिस अधिकारियों को देनी होगी।
  • अगर कोई जुलूस निकालते हैं तो उसका समय, शुरू होने का स्थान, मार्ग और समाप्ति का समय तय कर सूचना पुलिस को देनी होगी।
  • पार्टियों के काम पर चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक नजर रखेंगे।
  • आचार संहिता का उल्लंघन करने की शिकायत एप पर दर्ज करवाई जा सकती है, 100 मिनट के अंदर ही संबंधित अधिकारी इसका जवाब देंगे।
  • सरकारी कर्मचारी आचार संहिता के दौरान चुनाव आयोग के निर्देश पर काम करेंगे। सभी पार्टियां और उनके उम्मीदवार को चुनाव आयोग के फैसलों का पालन करना होगा। पालन नहीं करने पर कार्रवाई हो सकती है।
  • जिस भी चरण में वोटिंग होनी होगी, उससे दो दिन पहले शाम 5 बजे पार्टियों को अपना प्रचार अभियान रोकना होगा।

चुनाव में वीवीपीएटी का होगा इस्तेमाल

निर्वाचन आयोग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि चुनाव में वीवीपीएटी मशीनों का ही इस्तेमाल किया जाएगा। इस बार चुनाव में कुल 90 करोड़ मतदाता हैं, जिनमें से 1.5 करोड़ 18-19 साल के हैं जो पहली बार वोट करेंगे। वहीं, 1.60 करोड़ नौकरी पेशा मतदाता हैं। आयोग ने कहा है कि 1950 टोल फ्री नंबर पर आप वोटर लिस्ट से जुड़ी जानकारी ले सकते हैं। चुनाव आयोग ने बताया कि देश में 10 लाख पोलिंग बूथ होंगे, पिछली बार 9 लाख पोलिंग बूथ थे।

ये भी पढ़ें…

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान, जानें क्या हैं इस बार बड़े चुनावी मुद्दे!

Related posts