हनुमान जी के नाम आई चिट्ठी, लिखा- 14 अगस्त तक मुजाहिदों को छोड़ दो, वरना उड़ा देंगे मंदिर व आरएसएस दफ्तर

चैतन्य भारत न्यूज

लखनऊ. उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के प्राचीन मंदिर और आरएसएस के कार्यालय को लेकर धमकी भरा पत्र मिला है। पत्र में मंदिर और आरएसएस के कार्यालय निशाने पर होने की बात कही गई है। एटीएस और क्राइम ब्रांच की टीम कर रही पड़ताल।

रजिस्टर्ड डाक से यह पत्र अलीगंज हनुमान मंदिर के पते पर आया है। खुद को जेहाद समर्थक बताते हुए पत्र में कहा गया कि, अगर 14 अगस्त की शाम तक मुजाहिदों को रिहा नहीं किया गया तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें। मंदिर के व्यवस्थापक ने इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। मामले की संवदेनशीलता को देखते हुए मौके पर पुलिस पर तैनात कर दिया गया है। उधर मंदिर परिसर में तलाशी अभियान जारी है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक हाल ही में गिरफ्तार मुजाहिदों को न छोड़ने पर ब्लास्ट की धमकी रजिस्टर्ड डाक में दी गई है।

बताया जा रहा है कि आरएसएस कार्यालय, वरिष्ठ आरएसएस पदाधिकारी भी निशाने पर है। वहीं पत्र भेजने वाले ने खुद को जेहाद समर्थक बताया हैं। रजिस्टर्ड पत्र भेजने वाले का नाम जोगिंदर सिंह, खदरा मदेयगंज लिखा है। धमकी की सूचना मिलने पर एटीएस समेत क्राइम ब्रांच जांच पड़ताल में जुटी हुई है। एटीएस की टीम शकील के मोबाइल की डिटेल खंगाल रही है। वहीं, उसके ठिकानों पर छापेमारी करने की तैयारी शुरू कर दी गई है।

इससे पहले यूपी एटीएस ने लखनऊ के दुबग्गा इलाके से अलकायदा के संदिग्ध आतंकवादी मिनहाज और मसीरुद्दीन को गिरफ्तार किया था। दोनों आतंकी मुशीरुद्दीन और मिनहाज को कोर्ट ने 14 दिन की रिमांड पर एटीएस को सौंपा था। पूछताछ के दौरान 3 नाम सामने आए थे। बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पुलिस विश्वविद्यालय के स्थान पर बनने जा रहे विधि विज्ञान संस्थान का शिलान्यास करने 1 अगस्त को लखनऊ आ रहे हैं। गृह विभाग और पुलिस महकमा दोनों ही इसकी तैयारी में जुट गए हैं।

Related posts