आज करें काल का नाश करने वाली मां कालरात्रि की पूजा, परेशानियों से मुक्त होने के लिए करें इन मंत्रों का जाप

maa kali

टीम चैतन्य भारत

मां दुर्गा के सातवें स्वरूप का नाम कालरात्रि है। मां कालरात्रि का रंग घने अंधकार के समान काला है और इस वजह से उन्हें कालरात्रि कहा गया। मां दुर्गा ने असुरों के राजा रक्तबीज का वध करने के लिए अपने तेज से मां कालरात्रि को उत्पन्न किया था। इन्हें ‘शुभंकारी’ भी कहा जाता हैं। मां कालरात्रि की तीव्र छवि देख भूत-प्रेत भाग जाते है। मां कालरात्रि के तीन नेत्र हैं और तीनों ही गोल हैं। मां ने गले में विधुत की माला पहनी है। मां कालरात्रि के चार हाथ हैं जिसमें एक हाथ में कटार और एक हाथ में लोहे का कांटा धारण किया हुआ है। वहीं देवी मां के अन्य दो हाथ वरमुद्रा और अभय मुद्रा में है।



मां कालरात्रि सभी कालों का नाश कर देती हैं। मां के स्मरण मात्र से ही भूत-पिशाच, भय और अन्य सभी तरह की परेशानी दूर हो जाती है। कहा जाता है कि मां कालरात्रि की पूजा करने से भक्त समस्त सिद्धियों को प्राप्त कर लेते हैं। कालरात्रि देवी की पूजा काला जादू की साधना करने वाले जातकों के बीच बेहद प्रसिद्ध है।

मां कालरात्रि की पूजा विधि

  • सबसे पहले चौकी पर मां कालरात्रि की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें और फिर गंगा जल या गोमूत्र से शुद्धिकरण करें।
  • मां कालरात्रि की पूजा के दौरान लाल रंग के वस्त्र पहनने चाहिए।
  • मकर और कुंभ राशि के जातकों को कालरात्रि की पूजा जरूर करनी चाहिए।
  • मां को सात या सौ नींबू की माला चढाने से परेशानियां दूर होती हैं।
  • सप्तमी की रात्रि तिल या सरसों के तेल की अखंड ज्योत जलाएं।
  • पूजा करते समय सिद्धकुंजिका स्तोत्र, अर्गला स्तोत्रम, काली चालीसा, काली पुराण का पाठ करना चाहिए।
  • मां कालरात्रि को गुड़ का नैवेद्य बहुत पसंद है अर्थात उन्हें प्रसाद में गुड़ अर्पित करके ब्राह्मण को दे देना चाहिए। ऐसा करने से पुरुष शोकमुक्त हो सकता है।

मां कालरात्रि का मंत्र

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता, लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा, वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

मां कालरात्रि का स्तोत्र पाठ

हृीं कालरात्रि श्री कराली च क्लीं कल्याणी कलावती।
कालमाता कलिदर्पध्नी कमदीश कुपान्विता॥
कामबीजजपान्दा कमबीजस्वरूपिणी।
कुमतिघ्नी कुलीनर्तिनाशिनी कुल कामिनी॥
क्लीं हीं श्रीं मन्त्र्वर्णेन कालकण्टकघातिनी।
कृपामयी कृपाधारा कृपापारा कृपागमा॥

मां कालरात्रि का ध्यान मंत्र

करालवंदना धोरां मुक्तकेशी चतुर्भुजाम्।
कालरात्रिं करालिंका दिव्यां विद्युतमाला विभूषिताम॥
दिव्यं लौहवज्र खड्ग वामोघोर्ध्व कराम्बुजाम्।
अभयं वरदां चैव दक्षिणोध्वाघः पार्णिकाम् मम॥
महामेघ प्रभां श्यामां तक्षा चैव गर्दभारूढ़ा।
घोरदंश कारालास्यां पीनोन्नत पयोधराम्॥
सुख पप्रसन्न वदना स्मेरान्न सरोरूहाम्।
एवं सचियन्तयेत् कालरात्रिं सर्वकाम् समृध्दिदाम्॥

ये भी पढ़े…

नवरात्रि में करें मां दुर्गा के इन खास मंत्रों का जाप, जरुर प्रसन्न होंगी देवी और करेंगी हर मुराद पूरी

नवरात्रि में मां के 9 स्वरूपों को चढ़ाएं ये 9 भोग, पूरी होंगी सारी मनोकामनाएं

शारदीय नवरात्रि 2019 : नवरात्रि में इन गलतियों को करने से नहीं मिलता व्रत का पूरा फल

Related posts