जन्मदिन विशेष: UP के लाल ने किया MP में कमाल, 9 बार सांसद रह चुके हैं सीएम कमलनाथ, ऐसा है राजनीतिक सफर

kamal nath

चैतन्य भारत न्यूज

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ आज अपना 73वां जन्मदिन मना रहे हैं। 18 नवंबर 1946 को उत्तरप्रदेश के कानपूर में जन्में कमलनाथ ने देहरादून के दून स्कूल से पढ़ाई करने के बाद कोलकाता के सेंट जेवियर कॉलेज से उच्च शिक्षा हासिल की। जन्मदिन के इस खास मौके पर आइए जानते हैं कमलनाथ के जीवन और राजनीति से जुड़ी कुछ अहम बातें-


9 बार सांसद चुने गए कमलनाथ

34 साल की उम्र में 1980 के चुनाव में सांसद बनकर दिल्ली पहुंचे थे। कुल 9 बार कमलनाथ छिंदवाड़ा से सांसद चुने गए। उन्हें सिर्फ एक बार उपचुनाव में सुंदरलाल पटवा से हार का सामना करना पड़ा था। कमलनाथ ने एक ऐसे इलाके में विकास का काम किया जो आदिवासी बहुल्य और पिछड़ा माना जाता है। साथ ही उन्होंने छिंदवाड़ा में लोगों को रोजगार दिया और आदिवासियों के उत्थान के लिए भी कई काम किए। कमलनाथ पहली बार 1991 में वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने। उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। उसके बाद वे कपड़ा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), केंद्रीय उद्योग मंत्री, परिवहन व सड़क निर्माण मंत्री, शहरी विकास, संसदीय कार्य मंत्री बने। उन्होंने संगठन में भी महासचिव जैसे पद की जिम्मेदारी निभाई। उन्हें मई 2018 में मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया और दिसंबर में उन्होंने बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान को हराकर मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली।

23 कंपनियों के मालिक हैं कमलनाथ

राजनीति के अलावा कमलनाथ को बिजनेस टायकून भी कहा जाता है, वो 23 कंपनियों के मालिक हैं, जो उनके दोनों बेटे नकुल और बकुल चलाते हैं। सार्वजनिक जीवन में उल्लेखनीय योगदान के लिए कमलनाथ को 2006 में जबलपुर के रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया। 2007 में FDI मैगजीन और फाइनेंशियल टाइम्स बिजनेस ने उन्हें FDI ‘पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर’ से नवाजा था। ये सम्मान उन्हें विदेशी व्यापरियों को हिंदुस्तान की तरफ खींचने, निर्यात और निवेश को बढ़ावा देने के लिए दिया गया।

गांधी परिवार के हैं करीबी

कांग्रेस नेता की पारिवारिक स्थिति पर नजर दौड़ाएं तो वे 27 जनवरी, 1973 को अलका नाथ के साथ परिणय सूत्र में बंधे। उनके दो बेटे हैं। कमलनाथ की गिनती कभी संजय गांधी और फिर राजीव गांधी के करीबियों में होती रही है। उसके बाद उनका सोनिया गांधी और राहुल गांधी से अच्छा तालमेल है।

ये भी पढ़े…

कमलनाथ सरकार कार्यकाल के 10 महीने में 31 हजार करोड़ का निवेश, एक लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

हनी ट्रैप केस में सीएम कमलनाथ ने उठाया बड़ा कदम, डीजीपी को किया तलब

कमलनाथ के इस मंत्री ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बताया अनोखा जीव, पीएम मोदी पर भी कसा तंज

Related posts