प्रयागराज: संगम की रेती पर माघ मेला कल से, कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लाने पर ही मिलेगी एंट्री, इस बार सिर्फ 45 दिन का कल्पवास

चैतन्य भारत न्यूज

प्रयागराज में संगम की रेती पर माघ मेले का आगाज कल मकर संक्रांति पर प्रथम स्नान पर्व के साथ होगा। साधना, समर्पण और संस्कृति के इस पर्व में लाखों श्रद्धालु संगम तट पर आस्था की डुबकी लगाएंगे। हालांकि, कोरोना महामारी के चलते इस बार हर श्रद्धालु को अपनी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट लानी होगी।

मंगलवार की शाम तैयारियां पूरी कर ली गईं। पांच सेक्टर में बसे मेले में संगम समेत गंगा के छह घाटों पर मकर संक्रांति पर पुण्य की डुबकी लगेगी। इसके साथ ही प्रथम स्नान पर्व पर कोविड-19 के प्रोटोकॉल के पालन को लेकर मेला प्रशासन को अग्नि परीक्षा से होकर गुजरना होगा। घाटों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ स्नान की व्यवस्था की गई है। सुरक्षा और संक्रमण के खतरे को देखते हुए महिला हेल्प डेस्क और कोरोना हेल्प डेस्क बनाई गई है।

एक माह तक लोग करते हैं कल्पवास

इस बार पुरुषोत्तम मास लगने की वजह से माघ मेले में कल्पवास की शुरुआत 28 जनवरी से होगी, लेकिन हजारों की तादाद में लोग मकर संक्रांति से ही जप, तप, ध्यान शुरू कर देंगे। इसके लिए कल्पवासी आने लगे हैं। लेकिन, किसी के भी चेहरे पर कोरोना संक्रमण को लेकर डर नहीं दिख रहा है। हालत यह है कि लोग बिना मास्क के ही मेला क्षेत्र से लेकर शिविरों तक भ्रमण कर रहे हैं। बता दें हर साल तकरीबन 5 लाख साधु संत और श्रद्धालु यहां अस्थाई निवास बनाकर मकर संक्रांति से महाशिवरात्रि तक रहते हैं, जिन्हें कल्पवासी कहा जाता है। लेकिन, इस बार माघ पूर्णिमा तक ही कल्पवास की छूट दी गई है। ऐसे में कोरोना काल में भीड़ को नियंत्रित करना और सभी श्रद्धालुओं को सुरक्षित घर वापस भेजना मेला प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है।

संक्रमित मिलने के बाद पूरे शिविर के लोग होंगे आइसोलेट

सभी श्रद्धालुओं को अधिकतम तीन दिन पुरानी RT-PCR की निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगी। मेले में आने वाले कल्पवासियों का डेटाबेस भी तैयार किया जा रहा है। 15-15 दिनों में दो बार रैपिड एंटीजन किट से हर कल्पवासी की कोविड जांच भी कराई जाएगी। इसके अलावा शिविर में अगर एक भी श्रद्धालु की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो सभी लोगों को 15 दिन के लिए आइसोलेट भी किया जाएगा। इस बार कोविड।19 को देखते हुए मेले में अधिक भीड़ न हो, इसलिए मेले में जरूरी दुकानों को छोड़कर बाकी दुकानों पर पाबंदी रहेगी।

पहली बार हुआ कोविड टास्क फोर्स का गठन

माघ मेले की शुरुआत होने से पहले ही कोरोना संक्रमण का डर बढ़ने लगा है। मेले की तैयारियों में लगे कई पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। अब तक 10 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें 7 कॉन्स्टेबल, 2 हेड कॉन्स्टेबल और एक सब इंस्पेक्टर शामिल हैं। इनके अलावा पांच होमगार्ड के जवान भी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, जिससे पुलिस वालों में खौफ है। हालांकि, अधिकारी योग-ध्यान और काढ़े के जरिए पुलिसवालों की इम्युनिटी मजबूत करने में लगे हुए हैं।

ये है मेला की सुरक्षा व्यवस्था

पुलिस अधीक्षक क्राइम आशुतोष मिश्रा के मुताबिक, 5 सेक्टरों में विभाजित माघ मेले में श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए 5 हजार से अधिक पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। पूरे माघ मेला क्षेत्र में 100 से ज्यादा CCTV कैमरे लगाए गए हैं। वॉच टावर बनाए गए हैं। पांच कंपनी PAC, RPF, जल पुलिस की टीमें भी लगाई गई हैं। इसके अलावा खुफिया एजेंसियों को भी तैनात किया गया है। पूरे माघ मेले की ड्रोन कैमरे से 24 घंटे निगरानी की जा रही है। 57 दिनों तक चलने वाले मेले में 13 फायर स्टेशन, गोताखोर और नावें अलर्ट हैं।

Related posts