मैग्नीफिसेंट एमपी : कमलनाथ सरकार कार्यकाल के 10 महीने में 31 हजार करोड़ का निवेश, एक लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

magnificiant mp

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. मध्यप्रदेश में औद्योगिक निवेश और रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में शुक्रवार को ‘मैग्नीफिसेंट एमपी’ की शुरुआत हुई। इस कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया। ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में हो रही इस दो दिवसीय समिट में देश-विदेश के नामी करीब 900 उद्योगपति शामिल हो रहे हैं।



देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी इस समिट में तो नहीं आ पा रहे लेकिन वह वेबकास्ट के जरिए अपनी बात रखेंगे। बता दें इस समिट में रिलायंस इंडस्ट्रीज, आदित्य बिड़ला ग्रुप, गोदरेज ग्रुप, अडाणी ग्रुप, बजाज, टाटा, टोयटा, आयशर मोटर्स समेत और भी कई बड़े उद्योग समूह के लोग शामिल होंगे। मैग्नीफिसेंट एमपी समिट में कमलनाथ सरकार उद्योगपतियों को प्रदेश की खूबियां बताएगी, वरिष्ठ अधिकारी 2 सत्रों में प्रेजेंटेशन देंगे।

समिट के आगाज से पहले गुरुवार को प्रदेश के मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में प्रेस वार्ता ली। इस दौरान उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि, राज्य में कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद से अब तक 31 हजार करोड़ रुपए का निवेश आ चुका है। इस निवेश के जरिए एक लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे। उन्होंने आगे बताया कि, कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 11 बजे से होगी। इसमें 8 उद्योगपति चर्चा करेंगे और मुकेश अंबानी वेब कास्ट के जरिए बात करेंगे। इन 8 उद्योगपतियों में श्रीकुमार मंगलम बिरला, आईटी के चेयरमेन संजीत पुरी, टोयोटा के विक्रम किर्लोस्कर, देश के सबसे बड़े फॉर्मासिटिकल ग्रुप के हेड दीलिप संघवी, एन निवासन सहित और भी शामिल होंगे।

मोहंती के मुताबिक, मार्च तक 74 हजार करोड़ रुपए का निवेश और आएगा जिससे 1.10 लाख लोगों को रोजगार प्राप्त होगा। इस प्रकार कमलनाथ सरकार बनने से लेकर मार्च 2019 तक मप्र में 105 हजार करोड़ रुपए का निवेश आ जाएगा, जिससे 2.10 लाख लोगों को रोजगार प्राप्त होगा।

उन्होंने यह भी बताया कि, भाजपा की शिवराज सरकार के कार्यकाल के दौरान साल 2016 में इंदौर में हुए निवेश सम्मेलन में 5 लाख करोड़ रुपए के निवेश करार सरकार ने उद्योगपतियों के साथ किए थे। इन निवेश करारों में से मात्र 1.20 लाख करोड़ रुपए के निवेश ही जमीन पर आ पाए है। यानी कि पिछले समिट में हुए कुल एमओयू (memorandum of understanding) का मात्र 25 फीसदी ही धरातल पर आया है।

ये प्रमुख दस निवेश होंगे

  • बीना रिफाइनरी- 3,500 करोड़
  • रालसन टायर- 1,788 करोड़
  • पॉवर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इडिया लिमिटेड- 858 करोड़
  • श्रीराम पिस्टन एंड रिंग्स लिमिटेड- 600 करोड़
  • प्रॉक्टर एंड गेंबल लिमिटेड- 500 करोड़
  • सतगुरु सीमेंट- 405 करोड़
  • जमुना ऑटो इंडस्ट्रीज- 400 करोड़
  • वर्धमान फैब्रिक- 400 करोड़
  • अजंता फार्मा- 400 करोड़
  • वंडर सीमेंट- 400 करोड़
  • पार फार्मा- 375 करोड़
  • एल्केम लेबोरेटरीज- 350 करोड़
  • ल्यूूपिन फार्मा- 300 करोड़
  • मेपेक्स फार्मा- 300 करोड़
  • अग्रवाल एजुकेशनल ट्रस्ट- 300 करोड़
  • महिंद्र हॉलिडे एंड रिसॉर्ट-225 करोड़

ये भी पढ़े…

हनी ट्रैप केस में सीएम कमलनाथ ने उठाया बड़ा कदम, डीजीपी को किया तलब

कमलनाथ सरकार का फैसला, जल्द ही खत्म होगा महाकाल मंदिर का वीआईपी कल्चर

महाकाल मंदिर की सुंदरता और श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए 300 करोड़ खर्च करेगी कमलनाथ सरकार

मध्यप्रदेश : कमलनाथ सरकार का बड़ा फैसला, OBC वर्ग को मिलेगा 27 फीसदी आरक्षण

Related posts