वैज्ञानिकों ने भी माना सबसे शक्तिशाली होता महामृत्युंजय मंत्र, इसे जपने मात्र से टल जाती है अकाल मृत्यु

maha mrityunjaya mantra,maha mrityunjaya mantra ka mahatv,maha mrityunjaya mantra ke laabh,

चैतन्य भारत न्यूज

महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव के प्रमुख मंत्रों में सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। महामृत्युंजय मंत्र यानी मृत्यु पर विजय का मंत्र कहा जाता है। इसलिए भगवान शिव को मृत्यु का देवता भी कहते हैं। कहा जाता है कि मृत्यु अगर निकट आ जाए और आप महाकाल के महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने लगें तो यमराज की भी हिम्मत नहीं होती कि वह भगवान शिव के भक्त को अपने साथ ले जाए। इस मंत्र की शक्ति से जुड़ी कई कथाएं शास्त्रों और पुराणों में मिलती है।

maha mrityunjaya mantra,maha mrityunjaya mantra ka mahatv,maha mrityunjaya mantra ke laabh,

इसके अलावा वैज्ञानिकों का भी मानना है कि महामृत्युंजय मंत्र सबसे शक्तिशाली है। विज्ञान के हिसाब से देखा जाए तो महामृत्युंजय मंत्र के अक्षरों का उच्चारण करने पर शरीर में जो कंपन होता है, वो हमारे शरीर की नाड़ियों को शुद्ध करने और तेज करने में मदद करता है। वैज्ञानिकों के शोध से साबित हुआ है कि, भगवान शिव के महामृत्युंजय मंत्र में सर्वाधिक ऊर्जा है। बता दें दुनिया का पहला योग विश्वविद्यालय बिहार के मुंगेर शहर में है जहां वैज्ञानिकों के दल के साथ मंत्रों की सकारात्मक ऊर्जा को क्वांटम मशीन से मापा और सिद्घ किया कि महामृत्युंजय मंत्र सर्वाधिक शक्तिशाली है। इससे अपार ऊर्जा निकलती है।

maha mrityunjaya mantra,maha mrityunjaya mantra ka mahatv,maha mrityunjaya mantra ke laabh,

वैज्ञानिकों के मुताबिक, मंत्रों की ऊर्जा मापने के लिए उन्होंने विशेष रूप से तैयार हुई क्वांटम मशीन की मदद ली। इसके सामने जब गायत्री व कुछ अन्य मंत्रों का जाप किया गया तो काफी ऊर्जा पैदा हुई। लेकिन जब महामृत्युंजय मंत्र का जाप किया गया, तो इतनी ज्यादा ऊर्जा उत्पन्न हुई कि क्वांटम मीटर का कांटा अंतिम बिंदु पर पहुंचकर बार-बार टकराने लगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि, अगर मीटर पूरा गोल होता तो कांटा उसमें तेजी से घूमने लगता। इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि, महामृत्युंजय मंत्र का जब एक साथ कई लोगों ने जाप किया, तो अत्यधिक ऊर्जा पैदा हुई। मीटर को बंद न करते तो वह टूट भी सकता था।

maha mrityunjaya mantra,maha mrityunjaya mantra ka mahatv,maha mrityunjaya mantra ke laabh,

पूर्ण महामृत्युंजय मंत्र 

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

उर्वारुकमिव बन्धनात् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

ये भी पढ़े…

भगवान शिव के अंतिम ज्योतिर्लिंग के दर्शन से पूरी होती है संतानप्राप्ति की मनोकामना, जानिए इसका महत्व और विशेषता

भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है केदारनाथ धाम, जानिए इस ज्योतिर्लिंग का इतिहास और महत्व

भगवान शिव के इस रहस्यमयी मंदिर में चढ़ाने के बाद दूध सफेद से हो जाता है नीला

Related posts