आज है महाकाल भैरव अष्‍टमी, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इस विधि करें पूजा

mahakaal bhairav ashtami,mahakaal bhairav ashtami 2019,mahakaal bhairav ashtami ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

मार्गशीर्ष माह में कृष्ण पक्ष की अष्टमी को काल भैरवाष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस बार भैरवाष्टमी 19 नवंबर को पड़ रही है। मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव ने कालभैरव के रूप में अवतार लिया था। कहते हैं भैरवाष्टमी के दिन भगवान शिव की पूरे विधि-विधान से पूजा करने से भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। आइए जानते हैं भैरवाष्टमी का महत्व और इसकी पूजन-विधि।



mahakaal bhairav ashtami,mahakaal bhairav ashtami 2019,mahakaal bhairav ashtami ka mahatava

भैरवाष्टमी का महत्व

भैरव बाबा का हिंदू देवताओं में बहुत अधिक महत्त्व है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, इन्हें दिशाओं का रक्षक और काशी का संरक्षक भी कहा जाता है। कालभैरव की पूजा से रोग, शोक, दुखः, दरिद्रता से मुक्ति मिलती है और जीवन सुखमय होता है। कहते हैं अगर इस दिन भैरव जी के वाहन कुत्‍ते को गुड़ खिलाया जाए तो दसों दिशाओं में नकारात्मक प्रभावों समाप्‍त हो जाता और पुत्र की भी प्राप्ति होती है।

mahakaal bhairav ashtami,mahakaal bhairav ashtami 2019,mahakaal bhairav ashtami ka mahatava

भैरवाष्टमी पूजन-विधि

  • इस दिन काले कुत्ते को भोजन जरूर कराना चाहिए। बता दें कुत्ता भैरव देव का वाहन होता है।
  • भैरव बाबा की पूजा के साथ-साथ माता वैष्णो देवी की भी पूजा करनी चाहिए।
  • पूजा के दौरान भगवान शिव की पूजा और काल भैरव की कथा जरूर सुने।
  • इस दिन गरीबों में अन्न और वस्त्र का दान करना चाहिए।
  • इस दिन कालभैरव के मंदिर में जाकर उनकी प्रतिमा पर सिंदूर और तेल चढ़ाएं और मूर्ति के सामने बैठकर काल भैरव मंत्र का जाप करें।
  • भैरव की प्रिय वस्तुएं जैसे काले तिल, उड़द, नींबू, नारियल, अकौआ के पुष्प, कड़वा तेल, सुगंधित धूप, पुए, मदिरा और कड़वे तेल से बने पकवान दान कर सकते हैं।
  • मान्यता है जो व्यक्ति भैरवाष्टमी व्रत रखता है उसके सारे कष्ट मिट जाते हैं।
  • इस व्रत को करने से रोगों से भी मुक्ति मिलती है।

ये भी पढ़े…

नवंबर में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां जानिए पूरी लिस्ट

घर में सुख-समृद्धि पाने के लिए बुधवार को भगवान गणेश की ऐसे करें पूजा

ये है भगवान गणेश का अनोखा मंदिर, जहां चोर करते थे चोरी के माल का बंटवारा, बप्पा को भी देते थे हिस्सा

Related posts