धन और सुख-समृद्धि पाने के लिए आज करें महालक्ष्मी व्रत, इस विधि से करें पूजा, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

mahalakshmi vrat 2019 ,mahalakshmi vrat ka mahatav, mahalakshmi vrat puja vidhi ,kab hai mahalakshmi vrat ,gajlaxmi vrat 2019 hathi pujan

चैतन्य भारत न्यूज

पितृ पक्ष के 16 दिनों में से अष्टमी का दिन काफी शुभ माना जाता है, क्योंकि इस दिन माता लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। बता दें पितृ पक्ष के दौरान नई वस्तुएं खरीदने की मनाही होती है लेकिन अष्टमी के दिन सोना खरीदना काफी शुभ माना गया है। इस दिन हाथी पर सवार मां लक्ष्मी की पूजा होती है। आइए जानते हैं महालक्ष्मी व्रत का महत्व और पूजा-विधि।



mahalakshmi vrat 2019 ,mahalakshmi vrat ka mahatav, mahalakshmi vrat puja vidhi ,kab hai mahalakshmi vrat ,gajlaxmi vrat 2019 hathi pujan

महालक्ष्मी व्रत का महत्व

इस व्रत को करने से धन-धान्य और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। साथ ही दरिद्रता दूर होती है। मान्यता है कि इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा करने के साथ श्रीहरि भगवान विष्णु भी प्रसन्न होते हैं। भक्तों को माता लक्ष्मी का आशीर्वाद मिलने के साथ ही भगवान विष्णु की भी कृपा प्राप्त होती है। इस व्रत को हाथी अष्टमी या गजलक्ष्मी व्रत के नाम से भी जाना जाता है।

mahalakshmi vrat 2019 ,mahalakshmi vrat ka mahatav, mahalakshmi vrat puja vidhi ,kab hai mahalakshmi vrat ,gajlaxmi vrat 2019 hathi pujan

महालक्ष्मी व्रत की पूजा-विधि

  • इस व्रत की पूजा शाम के समय होती है।
  • इस दिन शाम को स्नान कर घर के मंदिर में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछा लें।
  • इसके बाद कपड़े पर केसर मिले चंदन से अष्टदल बना लें और उस पर चावल रख जल कलश रखें।
  • अब कलश के पास हल्दी से कमल बना लें और उस पर माता लक्ष्मी की मूर्ति विराजमान करें।

mahalakshmi vrat 2019 ,mahalakshmi vrat ka mahatav, mahalakshmi vrat puja vidhi ,kab hai mahalakshmi vrat ,gajlaxmi vrat 2019 hathi pujan

  • इसके बाद मिट्टी का हाथी बाजार से लाकर या घर पर बनाकर उसे स्वर्णाभूषणों से सजाएं।
  • हो सके तो इस दिन नया सोना खरीदकर उसे हाथी पर चढ़ाएं।
  • आप चाहे तो इस दिन सोने या चांदी का हाथी भी ला सकते हैं। इस दिन चांदी के हाथी का ज्यादा महत्व माना गया है।
  • इसके बाद माता लक्ष्मी की कमल के फूल से पूजन शुरू करें।
  • पुष्प माला, अक्षत, दूर्वा, लाल सूत, सुपारी, नारियल, फल मिठाई आदि से माता लक्ष्मी की पूजा करें।

ये भी पढ़े…

ब्राह्मणों को श्राद्ध का भोजन कराने के दौरान भूलकर भी न करें ये गलतियां

सबसे पहले इन्होंने किया था श्राद्ध, जानिए इसकी शुरुआत की कहानी

पितृ पक्ष में इन 3 वृक्ष की पूजा करने से मिलता है पूर्वजों का आशीर्वाद

Related posts