श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी से निष्कासित किए गए चिन्मयानंद

chinmayanand,chinmayanand case

चैतन्य भारत न्यूज

प्रयागराज (उप्र)। अपने ही ट्रस्ट के कॉलेज की एक छात्रा के यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को श्रीपंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी ने अपने अखाड़े से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। अखाड़े के सचिव महंत स्वामी रामसेवक गिरि ने शनिवार को मीडिया को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि चिन्मयानंद के कृत्य से संत समाज बदनाम हुआ है। कोर्ट का फैसला आने तक वह अखाड़े से बहिष्कृत रहेंगे।



बता दें कि चिन्मयानंद श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के महंत हैं। संत समाज में उन्हें लेकर विचार- विमर्श चल रहा था। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने भी सख्त रुख अपनाया था। अब उनके अखाड़े ने भी उन्हें निष्कासित कर दिया है। इस कार्रवाई के बाद चिन्मयानंद साधु-संतों की बैठक और अखाड़े के किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं ले सकेंगे।

उधर, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि 10 अक्टूबर को हरिद्वार में होने वाली अखाड़ों की बैठक में उनके बारे में किसी तरह का फैसला किया जा सकता है।

ये भी पढ़े…

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली छात्रा हुई गिरफ्तार, लगा उगाही का आरोप

अब संत समाज से भी निकाले जाएंगे यौन शोषण आरोपित चिन्मयानंद

चिन्मयानंद प्रकरणः आपत्तिजनक वीडियो लौटाने के एवज में पहले 25 लाख फिर मांग पहुंची 5 करोड़ रुपए तक

Related posts