फडणवीस का शिवसेना को करारा जवाब- राज्य में कोई 50-50 नहीं, पूरे पांच साल मैं ही रहूंगा मुख्यमंत्री

devendra fadnavis shivsena

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई. महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव के बाद से ही मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी में खींचतान चल रही है। इसी बीच हाल ही में देवेंद्र फडणवीस ने बड़ा बयान दिया है। सरकार बनाने के फॉर्मूले को लेकर फडणवीस ने शिवसेना को दो टूक जवाब देते हुए साफ कहा कि, ‘महाराष्ट्र में कभी 50-50 फॉर्मूला नहीं था। शिवसेना से ढाई-ढाई साल सीएम की बात कभी नहीं हुई थी। मैं ही अगले पांच साल तक मुख्यमंत्री रहूंगा।’ साथ ही बीजेपी के सांसद संजय काकडे ने यह दावा किया है कि, ‘शिवसेना के करीब 45 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं, जो उनके साथ मिलकर सरकार बनाना चाहते हैं।’ बता दें इस बार शिवसेना के कुल 56 विधायक जीते हैं।



24 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे आए थे, जिसके बाद से ही बीजेपी और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर विवाद जारी है। सोमवार को शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि, बीजेपी के साथ 50-50 के फॉर्मूले पर समझौता हुआ था। उन्होंने यह भी कहा था कि, ‘बीजेपी रामनाम जपती है, तो फिर वह सच बोले और बताए। 50-50 पर समझौता तो पहले ही हो चुका था।’ जिसके बाद मंगलवार को फडणवीस ने कहा कि, ‘शिवसेना की मांगों पर मेरिट के आधार पर विचार हो रहा है, हमारे पास कोई प्लान B या C नहीं है, ये बात पक्की है कि मैं ही मुख्यमंत्री बनूंगा। हमारे पास दस निर्दलीय विधायकों का समर्थन है, जल्द ही ये संख्या 15 तक पहुंचेगी।’

फडणवीस ने यह भी कहा कि, ‘बुधवार को विधायक दल की बैठक होगी, जिसमें नेता का चुनाव किया जाएगा। शिवसेना पांच साल के लिए मुख्यमंत्री पद चाहती है, लेकिन मांगना और प्रैक्टिकल होना दो अलग बातें हैं। मुख्यमंत्री पद को लेकर कभी कोई 50-50 फॉर्मूला तय नहीं हुआ।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘अगर शिवसेना की कोई डिमांड है, तो उन्हें हमारे पास आना चाहिए। हम उन मांगों पर मेरिट के आधार पर बात करेंगे।’

महाराष्ट्र में किसने जीती कितनी सीटें?

बता दें 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र में 288 सदस्यीय विधानसभा सीटों के लिए चुनाव हुए थे, जिसमें से बीजेपी को 105 और शिवसेना को 56 सीटें मिली हैं। इनके अलावा एनसीपी ने 54 सीट जीतीं, जबकि कांग्रेस के हिस्से 44 सीट आई हैं।

सूत्रों के मुताबिक, शिवसेना और बीजेपी में समझौता कराने के लिए गृहमंत्री अमित शाह 30 अक्टूबर यानी बुधवार को मुंबई जानें वाले थे। लेकिन आखिरी समय में उनका यह दौरा रद्द हो गया। मंत्री पद को लेकर नई सरकार में फिलहाल बीजेपी और शिवसेना के बीच औपचारिक-अनौपचारिक बातचीत जारी है। अब तक नए विधायकों की शपथ ग्रहण की तारीख की घोषणा नहीं हुई है।

ये भी पढ़े…

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना को बहुमत

महाराष्ट्र चुनाव परिणाम : नतीजे आने से पहले शिवसेना ने बीजेपी को दिखाई ताकत, आदित्य के लिए मांगा मुख्यमंत्री पद!

52 साल में पहली बार ठाकरे परिवार का सदस्य लड़ रहा चुनाव, जानें कितने करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं आदित्य ठाकरे

 

Related posts