महाशिवरात्रि 2020: आखिर क्यों महाशिवरात्रि को कहा जाता है ‘सिद्धि रात्रि’? शिव की पूजा से होते हैं दोषमुक्त

shivratri

चैतन्य भारत न्यूज

भगवान शिव की आराधना का पर्व और शिव-पार्वती के विवाह का उत्सव महाशिवरात्रि इस बार 11 मार्च को है। पौरााणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। महाशिवरात्रि पर भगवान शिव और पार्वतीजी की पूरे विधि-विधान से पूजा की जाती है और उन्हें भांग, धतूरा, बेल पत्र और बेर चढ़ाए जाते हैं।


शिवरात्रि यानी सिद्धि रात्रि

धार्मिक ग्रंथों में तीन तरह की विशेष रात्रि बताई गई है। इनमें शरद पूर्णिमा को ‘मोहरात्रि’, दीपावली की ‘कालरात्रि’ और महाशिवरात्रि को ‘सिद्धि रात्रि’ कहा गया है। इस दिन भक्तजन रात्रि जागरण कर भगवान शंकर को मनाते हैं, उनके भजन गाते हैं, मंत्र जाप करते हैं। इसीलिए इसे सिद्धि रात्रि भी कहते हैं। माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि में भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था।

शिव की पूजा से मिलेगी दोषों से मुक्ति

धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक, इसी दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती के साथ हुआ था। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती पूरे विश्व का भ्रमण करते हैं। महाशिवरात्रि पर भगवान शिव का अभिषेक करना सबसे ज्यादा शुभ और फलदायक माना जाता है। इस दिन भगवान शिव को उनकी प्रिय वस्तु बेलपत्र, भांग और धतुरा आदि अर्पित किया जाता है। भगवान शिव को भांग बेहद पसंद है, इसलिए इस दिन उन्हें भांग का प्रसाद भी चढ़ाया जाता है। महाशिवरात्रि पर भोलेनाथ की पूजा करने से सभी संकट खत्म हो जाते हैं और जीवन सुखमय हो जाता है। इस दिन की गई पूजा सभी दोषों से भी मुक्त कर देती है।

 

Related posts