रिटायरमेंट के बाद महेंद्र सिंह धोनी अब पालेंगे मुर्गे, झाबुआ के प्रसिद्ध कड़कनाथ मुर्गे के चूजों का दिया ऑर्डर

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से रिटायरमेंट लेने के बाद पूर्व क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी नए बिजनेस में हाथ आजमाने जा रहे हैं। वे मध्य प्रदेश के झाबुआ जिले के प्रसिद्ध कड़कनाथ मुर्गें पालेंगे और उन्हें बेचेंगे। मांस में काफी अच्छे प्रोटीन की वजह से यह मुर्गा पूरे देश में प्रसिद्ध हैं। बताया जाता है कि धोनी ने दो हजार चूजे खरीदने का ऑर्डर झाबुआ जिले के एक आदिवासी को दिया है।

धोनी यह काम अपने गृहनगर रांची में करेंगे। धोनी ने चूजे खरीदने के लिए झाबुआ के आदिवासी किसान विनोद मैड़ा एडवांस भी भिजवा दिया है। उन्होंने 15 दिसंबर तक ये चूजे रांची मंगवाए हैं। झाबुआ के कड़कनाथ मुर्गा अनुसंधान केंद्र के निदेशक डॉ. आइएस तोमर ने मीडिया को बताया कि धोनी ने अपने दोस्तों के माध्यम से केंद्र में संपर्क किया था लेकिन उस समय यहां चूजे उपलब्ध नहीं थे। उन्हें इसकी फार्मिंग करने वाले आदिवासी किसान से संपर्क करने
को कहा गया था।

कड़कनाथ दुर्लभ मुर्गे की प्रजाति है। काले रंग के इस मुर्गे के मांस में अन्य प्रजातियों के मुकाबले ज्यादा स्वादिष्ट, पौष्टिक, सेहतमंद और कई औषधीय गुण होते हैं। इसकी बिक्री के लिए मध्य प्रदेश के सहकारिता विभाग ने एक एप भी बनाया है। कड़कनाथ के मांस में जहां 25 प्रतिशत प्रोटीन होता है, वहीं बाकी मुर्गों में 18-20 फीसदी प्रोटीन ही पाया जाता है। एक बार भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों को   कड़कनाथ खाने की सलाह भी दी गई थी।

Related posts