जानिए क्या है मकर संक्रांति और क्यों मनाया जाता है यह त्योहार?

makar sankranti 2020,makar sankranti ka mahatava,

चैतन्य भारत न्यूज

लोहड़ी और मकर संक्रांति का पर्व अक्सर लगातार 13 और 14 जनवरी को पड़ते हैं। इस बार लोहड़ी 13 जनवरी को ही थी लेकिन मकर संक्रांति 15 जनवरी को है, क्योंकि ज्योतिषीय गणना के मुताबिक, इस बार सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 जनवरी की रात 02:07 बजे है। इसलिए संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जाएगी। आइए जानते हैं कि आखिर मकर संक्रांति क्या है और इसे क्यों मनाया जाता है?



makar sankranti 2020,makar sankranti ka mahatava,

क्या है मकर संक्रांति?

मकर संक्रांति में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। ज्योतिषीय गणना के अनुसार, मकर संक्रांति से ही सूर्य उत्तरायण होंगे।

makar sankranti 2020,makar sankranti ka mahatava,

क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति?

पौराणिक कथाओं के मुताबिक, मकर संक्रांति के दिन ही गंगा जी भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होते हुए सागर में जा मिली थीं। इसीलिए आज के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है। मकर संक्रांति को मौसम में बदलाव का सूचक भी माना जाता है। आज से वातारण में कुछ गर्मी आने लगती है और फिर बसंत ऋतु के बाद ग्रीष्म ऋतु का आगमन होता है। जबकि कुछ अन्य कथाओं के मुताबिक, मकर संक्रांति के दिन देवता पृथ्वी पर अवतरित होते हैं और गंगा स्नान करते हैं। इस वजह से भी गंगा स्नान का आज विशेष महत्व माना गया है।

makar sankranti 2020,makar sankranti ka mahatava,

ये भी पढ़े…

इस बार 15 जनवरी को मनाई जाएगी मकर संक्रांति, जानिए महत्व और सूर्य पूजा के खास मंत्र

संतान के खुशहाल जीवन के लिए रखा जाता है सकट चतुर्थी व्रत, जानें इसका महत्व और पूजन-विधि

2020 में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां देखें पूरे साल की लिस्ट

Related posts