मनमोहन सिंह का मोदी सरकार पर हमला- अर्थव्यवस्था लगातर बिगड़ती जा रही, सरकार जरा भी गंभीर नहीं

manmohan singh

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने मुंबई में भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि, ‘देश में मंदी की वजह से महाराष्ट्र पर असर पड़ा है। इसके कारण ऑटो हब बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। देश का हर तीसरा व्यक्ति बेरोजगार है।’ मनमोहन सिंह ने बताया कि, आज किसानों की आत्महत्या के मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर पहुंच गया है। निवेशक महाराष्ट्र को छोड़कर अन्य राज्यों में शिफ्ट हो रहे हैं।


देश में उद्योगों की रफ्तार काफी धीमी

पूर्व प्रधानमंत्री का कहना है कि, बीजेपी को जिसके लिए वोट मिला, वह उसे करने में नाकाम रही। उन्होंने कहा कि, ‘महाराष्ट्र का विनिर्माण ग्रोथ पिछले चार साल से लगातार घट रहा है। देश में उद्योगों की रफ्तार काफी धीमी हो चुकी है, अर्थव्यवस्था के खराब मैनेजमेंट का खामियाजा उठाना पड़ा है।’ उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार लोगों के हित की नीतियां बनाने में नाकाम रही है। मैंने अपने कार्यकाल में महाराष्ट्र के कई नेताओं के साथ काम किया। सभी महाराष्ट्र का हित चाहते थे। किसानों के लिए कर्जमाफी भी हमने की थी।’

 

पीएमसी बैंक मामला दुर्भाग्यपूर्ण

मनमोहन सिंह ने पीएमसी बैंक मामले में कहा कि, ‘इस बैंक को लेकर जो कुछ भी हुआ वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण रहा है। मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, देश के प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री से इस मामले को देखने और प्रभावित 16 लाख लोगों की शिकायतों का समाधान करने की अपील करता हूं। भारत सरकार, रिजर्व बैंक और महाराष्ट्र सरकार से अपेक्षा करता हूं कि वे एक साथ इस मामले में एक विश्वसनीय और प्रभावी समाधान प्रदान करें जहां 16 लाख जमाकर्ता न्याय पाने की कोशिश कर रहे हैं।’

आर्टिकल 370 अस्थायी उपाय है

मनमोहन सिंह ने आर्टिकल 370 को लेकर कहा कि, ‘कांग्रेस पार्टी ने आर्टिकल 370 को निरस्त करने के लिए बिल के पक्ष में मतदान किया, न कि इसके खिलाफ। हमारी पार्टी का मानना है कि आर्टिकल 370 एक अस्थायी उपाय है लेकिन यदि कोई बदलाव लाना है तो यह जम्मू कश्मीर के लोगों के हित के साथ होना चाहिए। जिस तरह इसे राज्य में लागू किया गया था, हमने सिर्फ उसका विरोध किया था।’

बिगड़ती अर्थव्यवस्था को लेकर सरकार गंभीर नहीं

गौरतलब है कि, मनमोहन सिंह ने पिछले महीने भी देश की अर्थव्यवस्था को लेकर चिंता जाहिर की थी। उनका कहना था कि, देश में अर्थव्यवस्था की स्थिति लगातर बिगड़ती ही जा रही है, लेकिन सरकार इसे लेकर जरा भी गंभीर नहीं है। यदि ऐसा ही रहा तो आने वाले दिनों में हालात किस हद तक खराब हो सकते हैं, इसका अहसास सरकार को भी नहीं है।’ उन्होंने मोदी सरकार को सलाह देते हुए कहा था कि, ‘सरकार को इस दिशा में तत्काल जरूरी कदम उठाने चाहिए।’

ये भी पढ़े…

निर्मला सीतारमण के पति ने की अर्थव्यवस्था की आलोचना, अब वित्त मंत्री ने दिया करारा जवाब

दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था से दो कदम नीचे लुढ़का भारत, ये है वजह

आर्थिक सर्वे 2019 : आगामी वर्षों में पांच ट्रिलियन डॉलर की बन सकती है भारतीय अर्थव्यवस्था, यहां देखें आर्थिक सर्वे की खास बातें

Related posts