जन्मदिन विशेष: जानिए अभिनेता मनोज कुमार कैसे बने ‘भारत कुमार’, लाल बहादुर शास्त्री भी थे उनके फैन

चैतन्य भारत न्यूज

बॉलीवुड में ‘भारत कुमार’ के नाम से मशहूर मनोज कुमार आज अपना 83वां जन्मदिन मना रहे हैं। हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी एक्टिंग के जरिए दर्शकों के दिलों में देशभक्ति और प्यार की भावना जगाने वाले अभिनेता के तौर पर नाम जाना जाता है। जन्मदिन पर आइए जानतें हैं उनके बारे में कुछ खास बातें।

मनोज कुमार का जन्म साल 1937 में 24 जुलाई को पाकिस्तान में हुआ था। उनका असली नाम हरिकृष्ण गिरी गोस्वामी है। मनोज कुमार को फिल्में बहुत पसंद थी। फिल्मों को लेकर उनकी दीवानगी इस कदर थी कि एक्टर दिलीप कुमार की फिल्म ‘शबनम’ में दिलीप कुमार के किरदार के नाम पर उन्होंने अपना नाम मनोज कुमार रखा।

साल 1957 में बतौर एक्टर मनोज ने फिल्म ‘फैशन’ से अपने करियर की शुरुआत की। इस फिल्म के बाद वह लगातार कई फिल्मों में बतौर लीड एक्टर के तौर पर नजर आए। 60 के दशक तक आते- आते मनोज कुमार ने कई हिट फिल्में दी, जिसमें ‘पत्थर के सनम’, ‘पहचान’, ‘गुमनाम”, और वो कौन थी’ जैसी फिल्में शामिल हैं।

बॉलीवुड के अपने लंबे करियर में मनोज कुमार ने ज्यादातर देशभक्ति वाली फिल्मों में अभिनय किया है। साल 1965 में आई फिल्म ‘शहीद’ उनकी पहली देशभक्ति पर आधारित फिल्म थी। यह फिल्म स्वत्रंतत्रा सेनानी भगत सिंह के जीवन पर आधारित थी। फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई और यहीं से चल पड़ा उनके भारत कुमार बनने का सफर।

पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री भी मनोज कुमार के प्रशंसक थे। साल 1965 में भारत-पाक युद्ध के बाद लाल बहादुर शास्त्री नें मनोज को ‘जय जवान , जय किसान’ पर फिल्म बनाने को कहा, जिसके बाद मनोज कुमार ने फिल्म ‘उपकार’ बनाई। इस फिल्म के बाद से ही उन्हें इंडस्ट्री में भारत कुमार के नाम से पुकारा जाने लगा। इस फिल्म के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड से भी नवाजा गया था।

मनोज कुमार को अपने करियर में कुल 7 फिल्मफेयर अवॉर्ड मिले। इसके अलावा सिनेमा में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुए साल 2002 में पद्मश्री पुरस्कार और साल 2016 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Related posts