मासिक दुर्गाष्‍टमी पर इस विधि से करें मां दुर्गा की पूजा, मिलेगा मनचाहा फल

durga ashtami,durga ashtami vrat

चैतन्य भारत न्यूज

हर महीने की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मासिक दुर्गा अष्टमी मनाई जाती है। हिंदू धर्म में मासिक दुर्गा अष्टमी को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। मान्यता है कि, इस दिन व्रत रखकर मां दुर्गा की सच्चे मन से आराधना करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। इस बार मासिक दुर्गा अष्टमी 3 मार्च को पड़ रही है। आइए जानते हैं मासिक दुर्गा अष्टमी का महत्व और पूजा-विधि।



durga ashtami,durga ashtami vrat

दुर्गा अष्टमी का महत्व

ये दिन मां भगवती को समर्पित होता है। दुर्गाष्टमी के दिन मां दुर्गा के काली, भवानी, जगदंबा, नवदुर्गा आदि स्वरूपों की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन जो भी भक्त पूरी श्रद्धा भावना से मां भगवती का व्रत करते हैं उनके सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। हर महीने आने वाली मासिक दुर्गाष्टमी का एक अलग ही महत्व होता है। दुर्गाष्टमी का पर्व हर माह मनाया जाता हैं इसलिए इसे मासिक दुर्गाष्टमी कहा जाता हैं।

durga ashtami,durga ashtami vrat

दुर्गा अष्टमी पूजन-विधि

  • सुबह स्नान करने के बाद स्वच्छ कपड़े धारण कर व्रत का संकल्प लें।
  • पूजा के दौरान हाथों में लाल पुष्प लेकर मां दुर्गा की प्रतिमा को अर्पित करना चाहिए।
  • इसके बाद कपूर, दीया, धूपबत्ती प्रज्वलित कर और आरती के साथ माता दुर्गा की पूजा करनी चाहिए।
  • पूजा के दौरान मां दुर्गा को शहद, दही, घी, गंगाजल और दूध से बना पंचामृत अर्पित करना चाहिए।
  • इसके अलावा पांच फल व किशमिश, सुपारी, पान, लौंग, इलायची आदि अर्पित करने चाहिए।
  • इस दिन नौ छोटी कन्याओं को भोजन कराना सबसे महत्वपूर्ण माना गया है।

ये भी पढ़े…

कन्या पूजन के दौरान इन खास नियमों का पालन जरूर करें, नहीं तो अधूरी रह जाएगी मां दुर्गा की उपासना

इस शुभ मुहूर्त में पूजा करने पर प्रसन्न होगी मां गौरी, जानिए अष्टमी का महत्व और पूजा-विधि

2020 में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां देखें पूरे साल की लिस्ट

Related posts