आज है मासिक शिवरात्रि, भोलेनाथ की ऐसे करें पूजा, पूरी होगी सभी मनोकामना

masik shivratri,masik shivratri ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

हिंदू धर्म के मुताबिक, हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। इस दिन विशेष रूप से भगवान शिव की पूजा की जाती है। इस बार मासिक शिवरात्रि 24 दिसंबर को पड़ रही है। आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि व्रत का महत्व और पूजन-विधि।



masik shivratri,masik shivratri ka mahatava

मासिक शिवरात्रि का महत्व

एक साल में एक महाशिवरात्रि और 11 शिवरात्रियां पड़ती हैं, जिन्हें मासिक शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, देवी लक्ष्मी, इंद्राणी, सरस्वती, गायत्री, सावित्री, सीता पार्वती ने भी मासिक शिवरात्रि का व्रत रख कर शिव की पूजा की थी। मान्यता है कि, मासिक शिवरात्रि को ही भगवान शिवलिंग के रूप में प्रकट हुए थे। इसी दौरान भगवान ब्रह्मा और विष्णु के द्वारा पहली बार शिवलिंग का पूजन किया गया था। शिवरात्रि के दिन जो भी भक्त भगवान शिव की पूजा सच्चे मन से करता है उसे सारे कष्टों से मुक्ति मिलती है।

masik shivratri,masik shivratri ka mahatava

मासिक शिवरात्रि की पूजन-विधि

  • मासिक शिवरात्रि के दिन भगवान शिव की पूजा प्रदोष काल में की जाती है।
  • पूजा के दौरान ‘ऊं नम: शिवाय’ का जाप करते रहें।
  • शिवरात्रि के उपवास में अन्न ग्रहण नहीं किया जाता है। दोनों समय फलाहार का ही महत्व होता है।
  • मासिक शिवरात्रि के दिन शिव पुराण, शिव पंचाक्षर, शिव स्तुति, शिव अष्टक, शिव चालीसा, शिव रुद्राष्टक और शिव श्लोक का पाठ किया जाना चाहिए।
  • इस दिन रात भर जागरण किया जाता है और शिव की भक्ति में लीन होकर भजन किए जाते हैं।
  • मासिक शिवरात्रि के दिन शिव पूजा में रुद्राभिषेक का अधिक महत्व होता है।

ये भी पढ़े…

साल के आखिरी महीने में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां देखें पूरी लिस्ट

आज है संकष्टी चतुर्थी, गणेश की इस पूजन विधि से करेंगे आराधना तो पूरी हो जाएगी हर मनोकामना

आखिर क्यों पानी में ही किया जाता है गणेश जी का विसर्जन? जानिए वजह

Related posts