आज है मासिक शिवरात्रि, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए जान लें व्रत के नियम

masik shivratri, masik shivratri 2020, masik shivratri ka mahatav

चैतन्य भारत न्यूज

हर माह कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी यानी 14वें दिन मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। मासिक त्योहारों में शिवरात्रि का व्रत और पूजन का महत्व माना जाता है। इस बार मासिक शिवरात्रि 23 जनवरी को मनाई जाएगी। आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि का महत्व और पूजा-विधि।



masik shivratri, masik shivratri 2020, masik shivratri ka mahatav

मासिक शिवरात्रि का महत्व

हिंदू धर्म में मासिक शिवरात्रि का अपना अलग ही महत्व है। शिव के भक्त जहां साल में एक बार महाशिवरात्रि बड़ी ही धूमधाम से मनाते हैं। मासिक शिवरात्रि पर भी भोलेनाथ की आराधना करने की परंपरा हैं। शिव पुराण के अनुसार इस दिन व्रत और भगवान शिव की आराधना करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस दिन व्रत करने से मुश्किलें दूर होने लगती हैं।

masik shivratri, masik shivratri 2020, masik shivratri ka mahatav

कहा जाता है कि कुंवारी कन्याएं मनचाहा वर पाने के लिए यह व्रत करती हैं। इससे विवाह में आ रही रुकावटें भी दूर होती हैं। बता दें एक साल में एक महाशिवरात्रि और 11 शिवरात्रियां पड़ती हैं, जिन्हें मासिक शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, देवी लक्ष्मी, इंद्राणी, सरस्वती, गायत्री, सावित्री, सीता पार्वती ने भी मासिक शिवरात्रि का व्रत रख कर शिव की पूजा की थी।

मासिक शिवरात्रि की पूजा-विधि

  • सुबह स्नान करने के बाद स्वच्छ कपड़े धारण कर शिवलिंग का रुद्राभिषेक जल, शुद्ध घी, दूध, शकर, शहद, दही आदि से करें।
  • पूजा के दौरान भगवान शिव की धुप, दीप, फल और फूल आदि से पूजा करें।
  • शिवरात्रि व्रत में उपवास या फलाहार की मान्यता है।
  • शिवरात्रि के दिन रात में भी जागरण करना चाहिए। इस दौरान ‘ऊं नम: शिवाय’ का जाप करते रहें।
  • इस दिन शिव चालीसा, शिव पुराण, रूद्राक्ष माला से महामृत्युंज्य मंत्र का जाप करने से भी भगवान शिव प्रसन्न होते हैं।

ये भी पढ़े…

यहां है पुष्य नक्षत्र का 700 साल पुराना मंदिर, भगवान शिव और शनिदेव की एक साथ होती है आराधना

भगवान शिव के अंतिम ज्योतिर्लिंग के दर्शन से पूरी होती है संतानप्राप्ति की मनोकामना

इस रहस्यमयी मंदिर में 5 घंटों तक भगवान शिव के पास बैठा रहता है सांप

Related posts