सिर्फ महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरुषों को भी होता है ब्रेस्ट कैंसर, जानिए इसके कारण और लक्षण

man skeleton

चैतन्य भारत न्यूज

आमतौर पर लोग यही मानते हैं कि ब्रेस्ट कैंसर केवल महिलाओं को ही होता है, हालांकि यह एक बड़ी गलतफहमी है। जी हां… ब्रेस्ट कैंसर का खतरा सिर्फ महिलाओं में ही नहीं बल्कि पुरुषों में भी होता है, लेकिन इसे लेकर कोई खुलकर बात नहीं करता है। यह जानना बेहद जरुरी है कि पुरुषों में होने वाला ब्रेस्ट कैंसर महिलाओं से किस तरह अलग है और इसके लक्षण में कितना अंतर है।



वेबएमडी की रिपोर्ट के अनुसार, पुरुषों को भी ब्रेस्ट कैंसर होता है। हालांकि, दुनियाभर के ब्रेस्ट कैंसर के कुल मामलों में पुरुषों की संख्या एक प्रतिशत ही रहती है। अमेरिकी कैंसर सोसायटी (ACS) के मुताबिक, 883 में से लगभग एक पुरुष को उसके जीवन काल में ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा है। यह बहुत ही कम होने वाला कैंसर है जो पुरुषों के स्तन के टीश्यूज में होता है।

एक अध्ययन के मुताबिक, पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर होना एक दुर्लभ बीमारी है जो आमतौर पर 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के पुरुषों को होती है। इसे लेकर पुरुषों के बीच जागरूकता की कमी है। अक्सर ही पुरुष ब्रेस्ट कैंसर के लक्षणों को नजरअंदाज करते हैं। ऐसे में उनके अंदर गंभीर स्थिति बनती जाती है। आइए जानते हैं उन लक्षणों के बारे में जो पुरुषों को नजरअंदाज करना महंगा पड़ सकता है-

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण

छाती पर गांठ बनना
यदि आपकी छाती पर गांठ बन रही है तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। ये भी ब्रेस्ट कैंसर का लक्षण हो सकता है। बता दें इन गांठों में दर्द नहीं होता। लेकिन जैसे-जैसे कैंसर बढ़ता जाता है तो इसकी सूजन गर्दन तक फैल जाती है।

निप्पल का अंदर धंस जाना
गठान के बढ़ने के साथ-साथ लिंगामेंट्स ब्रेस्ट के अंदर खिंचने लगता है। ऐसे में कई बार निप्पल्स भी अंदर की ओर धंस जाते हैं और उसके आसपास की त्वचा भी ड्राई होने लगती है। कई बार निप्पल से खून भी आ सकता है।

पिंपल की तरह का घाव
ब्रेस्ट कैंसर में होने वाला ट्यूमर त्वचा से ही उभरता है। ऐसे में कैंसर के बढ़ने के साथ-साथ आपके निप्पल्स पर खुला घाव दिखाई पड़ सकता है। ये घाव एक पिंपल की तरह दिखता है। इन लक्षणों के दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर के कारण

  • शराब का ज्यादा सेवन करना पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ा देता है। दरअसल शराब से लीवर को नुकसान पहुंचता है और इससे हॉर्मोन लेवल भी प्रभावित होता है। ऐसे में पुरुष अधिकतर शराब का सेवन करते हैं, उनमें ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम बढ़ जाता है।
  • यदि आपके भाई बहन या परिवार के किसी अन्य सदस्य को यह कैंसर हुआ है तो आपमें भी इसका खतरा बढ़ सकता है। इस स्थिति को क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम कहते हैं। कैंसर का पता लगाने के लिए मैमोग्राम या अल्ट्रासाउंड जैसे इमेजिंग टेस्ट भी किए जा सकते हैं। आपको बायोप्सी की भी जरूरत पड़ सकती है।

पुरुषों के ब्रेस्ट कैंसर का इलाज

पुरुष ब्रेस्ट कैंसर के लिए सर्जरी सबसे आम उपाय है। सामान्य तौर पर इसमें एक मास्टेक्टॉमी शामिल होती है, जो आपके स्तन के ऊतक और अरोला के साथ ही किसी भी आसपास के लिम्फ नोड्स को निकाल देती है, जहां कैंसर फैल गया हो।


ये भी पढ़े… 

राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस : ये हो सकते हैं कैंसर होने के कारण, आईने के सामने खड़े होकर लगाएं पता

BreastFeeding Week : ब्रेस्टफीडिंग से जुड़े ये 6 मिथ जिन पर कभी न करें विश्वास

आखिर क्या होती है वीगन डाइट? जिसे फॉलो करने का चल रहा है ट्रेंड, जानें इसके फायदे और नुकसान

Related posts