पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर जल्द ही लग सकता है ब्रेक, टैक्स घटाने की तैयारी में मोदी सरकार

petrol diesel price,petrol price,diesel price

चैतन्य भारत न्यूज

जल्द ही आपको बढ़ती पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कुछ राहत मिल सकती है। केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में कटौती करने की तैयारी कर रही है। इसे लेकर वित्त मंत्रालय विचार कर रहा है कि कितनी कटौती की जा सकती है।

जानकारी के मुताबिक, वित्त मंत्रालय के अधिकारी इस एक्साइज ड्यूटी  कमी की संभावनाओं पर लगातार चर्चा कर रहे हैं। बता दें पेट्रोल और डीजल की कीमतें देश में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई हैं। इसकी वजह से विपक्ष द्वारा सरकार की काफी आलोचना हो रही है और यह मांग की जा रही है कि केंद्र और राज्य सरकारें टैक्सेज में कटौती करें।

ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने मंगलवार को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है। फरवरी महीने में पेट्रोल 4.87 रुपए और डीजल का रेट 4.99 रुपए महंगा हो चुका है। दिल्ली में सोमवार को पेट्रोल 91.17 और डीजल 81.47 रुपए प्रति लीटर पर बिक रहा है। कई शहरों में पेट्रोल के रेट 100 रुपए प्रति लीटर के करीब पहुंच चुके हैं।

RBI गवर्नर ने भी कहा

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास भी यह कह चुके हैं कि सरकारों को टैक्सेज में कटौती करनी चाहिए। अभी पेट्रोल और डीजल की कीमत में टैक्सेज का हिस्सा बहुत ज्यादा होता है। पेट्रोल की कीमत में करीब 60 फीसदी हिस्सा तो टैक्स का ही होता है। करीब 36 रुपए लीटर की लागत में आने वाला पेट्रोल दिल्ली में 91 रुपए के आसपास बिक रहा है यानी इसमें करीब 55 रुपए  का टैक्स ही लग रहा है।

इस वजह से बढ़ रहे दाम

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते भारतीय ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को दामों में बढ़ोतरी करनी पड़ रही है। पिछले 10 महीनों के दौरान कच्चे तेल के भाव में दोगुनी बढ़त ने भारत में ईंधन के दाम में इजाफा कर दिया है। पेट्रोल-डीज़ल के खुदरा दाम पर आम जनता को करीब 60 फीसदी तक टैक्स और ड्यूटीज़ चुकानी पड़ रही है। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल आयतक देश है। वहीं कोरोना महामारी के बाद बने हालात के चलते सरकार की आय का बड़ा हिस्सा पेट्रोल और डीजल पर मिलने वाले टैक्स और ड्यूटीज़ से आ रहा है।

Related posts