मिर्ची बाबा ने समाधि लेने के लिए लिखा पत्र, कलेक्टर ने नहीं दी अनुमति

vairagya nandi ji maharaj,mirchi baba,bhopal,samadhi

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल लोकसभा सीट से दिग्गज कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह की जीत के लिए मिर्ची से यज्ञ कराने वाले बाबा वैराग्यनंद गिरी महाराज उर्फ मिर्ची बाबा को लेकर मामला इन दिनों गर्माया हुआ है। दरअसल, बाबा ने चुनाव से पहले यह दावा किया था कि यदि दिग्विजय सिंह बीजेपी की साध्वी प्रज्ञा से चुनाव हारे तो वह सूरत में समाधि ले लेंगे। लेकिन उन्हें भोपाल कलेक्टर की ओर से समाधि लेने की अनुमति नहीं मिली है।

दरअसल, बाबा ने 13 जून को भोपाल के कलेक्टर तरुण कुमार पिथोड़े को एक पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने 16 जून को समाधि लेने की अनुमति मांगी थी। बाबा ने पत्र में लिखा था कि, ‘हालिया लोकसभा चुनाव के दौरान भोपाल संसदीय क्षेत्र के प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के पक्ष में कांग्रेस का प्रचार करते हुए मैंने उनके विजय की कामना के लिए एक यज्ञ करते हुए संकल्प लिया था कि अगर उनको भोपाल संसदीय चुनाव में पराजय का सामना करना पड़ा तो मैं हवनकुंड में ब्रह्मलीन समाधि लूंगा। मैं अभी कामाख्या मंदिर, असम में तपस्या कर रहा हूं। मैं 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनिट पर समाधि लेना चाहता हूं।’ इस पत्र पर बाबा के अधिवक्ता माजिद अली ने हस्ताक्षर किए हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें वैराग्यनंद बाबा ने हस्ताक्षर करने के लिए अधिकृत किया है।

बाबा के पत्र पर कलेक्टर ने डीआईजी को कहा है कि, आवेदन पत्र में लिखी गई बातों पर डीआईजी संज्ञान लेकर विधि सम्मत कार्रवाई करें। गौरतलब है कि, बाबा ने दिग्विजय सिंह की जीत के लिए 5 क्विंटल मिर्ची से यज्ञ कराया था। इसके बाद बाबा ने यह ऐलान किया था कि, अगर दिग्विजय सिंह भोपाल सीट से चुनाव नहीं जीते तो वह (बाबा) समाधि ले लेंगे।’ 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद बाबा का एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें वह समाधि लेने का दावा कर रहे थे। हालांकि बाद में बाबा के खिलाफ निरंजनी अखाड़े ने कड़ी कार्रवाई करते हुए उनसे अखाड़े के महामंडलेश्वर की पदवी छीन ली। साथ ही बाबा को अखाड़े से बाहर का रास्ता दिखा दिया था।

ये भी पढ़े… 

इस बाबा ने किया था दावा- दिग्विजय सिंह हारे तो मैं समाधि ले लूंगा, चुनावी नतीजे आते ही हो गए गायब

Related posts