बायोकेमिस्ट ने स्टेज पर केमिस्ट्री एक्सपेरिमेंट कर जीता ‘मिस अमेरिका’ का खिताब, खूबसूरती के साथ दिमाग को भी मिली तवज्जो

miss america 2020 camille schrier

चैतन्य भारत न्यूज

न्यूयॉर्क. व्यक्ति के अंदर छुपी प्रतिभा उसकी जिंदगी भी बदल सकती है। कुछ ऐसा ही अमेरिका के वर्जिनिया की रहने वाली कैमिला श्रियर ने कर दिखाया। पेशे से बायोकेमिस्ट कैमिला श्रियर ने अपनी खूबसूरती के दम पर नहीं बल्कि अपनी प्रतिभा के दम पर मिस अमेरिका 2020 का खिताब जीता है।

प्रतिभा को देखकर तय हुआ परिणाम

हाल ही में अमेरिका में 99वीं मिस अमेरिका प्रतिस्पर्धा आयोजित की गई। यह प्रतिस्पर्धा आम सौंदर्य प्रतियोगिता से बिल्कुल अलग थी। जहां अन्य सौंदर्य प्रतियोगिताओं में खूबसूरती पर ज्यादा जोर दिया जाता है, वहीं मिस अमेरिका प्रतिस्पर्धा में प्रतिभा को देखकर परिणाम तय किए गए।

हाइड्रोजन से जुड़ा एक्सपेरिमेंट किया

दरअसल मिस अमेरिका के आखिरी राउंड में सभी प्रतिभागियों को अपने अंदर छिपी हुई कोई प्रतिभा दिखानी थी। इसी राउंड में 24 साल की श्रियर, लैब में कोट पहनकर पहुंचीं और जजों के सामने स्टेज पर ही हाइड्रोजन से जुड़ा एक एक्सपेरिमेंट करके दिखाया। उनके द्वारा किए गए एक्सपेरिमेंट को देख जज भी हैरान रह गए। फिर जब स्पर्धा के जज गायिका केली रौलेंड, अभिनेत्री करामो ब्राउन और लॉरेन ऐश ने श्रियर से उनकी प्रतिभा के बारे में पूछा तो उन्होंने जवाब दिया कि, ‘मिस अमेरिका में कोई ऐसी खूबी भी होनी चाहिए, जो लोगों को शिक्षा दे सके।’ इसी के साथ श्रियर ने 50 महिलाओं को हराकर यह खिताब जीता।

ड्रग सेफ्टी प्रोग्राम में खर्च करेंगी इनामी धनराशि

बता दें श्रियर फिलहाल वर्जिनिया कॉमनवेल्थ यूनिवर्सिटी में फार्मेसी से डॉक्टरेट कर रही हैं। उनके पास पहले से ही साइंस की दो डिग्री हैं। मिस अमेरिका का खिताब जीतने पर श्रियर को 50 हजार डॉलर (करीब 36 लाख रुपए) दिए गए। जब उनसे यह सवाल किया गया कि- आप इस रकम का क्या करोगी? तो उन्होंने कहा वह इसे एक ड्रग सेफ्टी प्रोग्राम में खर्च करेंगी।

2018 में हुए नियमों में बदलाव

गौरतलब है कि साल 2018 में मिस अमेरिका प्रतिस्पर्धा के कुछ नियमों में बदलाव किया गया था। स्पर्धा से स्विमसूट सेगमेंट को हटाया गया और प्रतियोगियों की दिखावट आधार पर नंबर देना कम किया गया। जबकि स्पर्धा में महिलाओं को उनकी प्रतिभाएं और जुनून दिखाने का मौका दिया जाने लगा। दरअसल आयोजनकर्ता चाहते थे कि मिस अमेरिका बनने के लिए महिलाओं में जुनून दिखाई देना चाहिए।
बता दें 2018 में मिस अमेरिका की विजेता ग्रेचेन कार्लसन ने ऐलान किया था कि, आने वाली प्रतियोगिताओं में मिस अमेरिका का खिताब शारीरिक दिखावट की जगह महिलाओं की ताकत के आधार पर चुना जाएगा।

ये भी पढ़े…

जमैका की टोनी एन सिंह ने जीता मिस वर्ल्ड 2019 का खिताब, सेकेंड रनरअप रहीं भारत की सुमन रावत

साउथ अफ्रीका की यह सुंदरी बनी मिस यूनिवर्स 2019, कहा- हमारी जैसी महिलाओं को सुंदर नहीं समझा जाता

मिस कोहिमा 2019 में मॉडल से पूछा पीएम मोदी से जुड़ा सवाल, बोलीं- पीएम मोदी गाय से ज्यादा महिलाओं पर ध्यान दें

 

Related posts