कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने बनाया तीन चरणों वाला खास प्लान

narendra modi

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 540 नए मामले सामने आए हैं और 17 लोगों की मौत हुई है। इसी के साथ देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 5734 तक जा पहुंची है। इस जानलेवा वायरस से निपटने के लिए सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी के खिलाफ लड़ने के लिए तीन चरणों की रणनीति बनाई है।

मोदी सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग के लिए सभी राज्यों को पैकेज जारी किए हैं। इसे केंद्र ने ‘इमरजेंसी रिस्पॉन्स एंड हेल्थ सिस्टम प्रेपेअरनेस पैकेज’ नाम दिया है। ये पैकेज 100 प्रतिशत केंद्र की ओर से फंडेड है। केंद्र सरकार का यह अनुमान है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लंबी चलने वाली है। वहीं राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भेजे गए केंद्र सरकार के पत्र के मुताबिक इस प्रोजेक्ट के तीन चरण हैं-

  • पहला चरण- जनवरी 2020 से जून 2020
  • दूसरा चरण-जुलाई 2020 से मार्च 2021
  • तीसरा चरण-अप्रैल 2021 से मार्च 2024

सरकार के पहले चरण में कोविड-19 अस्पताल बनाने, आइसोलेशन ब्लॉक बनाने, वेंटिलेटर युक्त सुविधा वाले ICU बनाने, PPEs (पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट्स)- N95 मास्क- वेंटिलेटर्स की उपलब्धता पर ध्यान केंद्रित रहेगा। साथ ही लैब नेटवर्क्स और डायग्नोस्टिक सुविधाएं बनाने पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा। केंद्र द्वारा दिए गए फंड का इस्तेमाल सर्विलांस, महामारी के खिलाफ जागरूकता जगाने में भी किया जाएगा। फंड का एक हिस्सा सरकारी दफ्तरों, जनसुविधाओं, अस्पतालों और एम्बुलेंस को संक्रमण रहित बनाने पर भी खर्च किया जाएगा।

दूसरे और तीसरे चरण में क्या-क्या होना है इस अब तक इसका खुलासा नहीं हुआ है। इसके लिए बहुत कुछ तब की स्थिति विशेष पर निर्भर करेगा।

बता दें केंद्र और राज्य सरकारों की कई बैठकों के बाद यह प्रोजेक्ट सामने आया है। राज्य सरकारों द्वारा लगातार कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए मोदी सरकार से एक स्पेशल पैकेज की मांग की जा रही थी। इसके बाद केंद्र सरकार द्वारा तीन चरणों वाली रणनीति बनाई गई है।

ये भी पढ़े…

इंदौर: देश में कोरोनावायरस से पहले डॉक्टर की मौत, नहीं कर रहे थे कोरोना मरीजों का इलाज, फिर भी हुए संक्रमित

कोरोना संकट: कोरोना वायरस रोकने में कारगर दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन जरूरतमंद देशों को निर्यात करेगा भारत

कोरोना निगेटिव होने पर अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद भी 14 दिन होम क्वारंटाइन में रहना जरुरी

Related posts