मस्जिद बनी मंदिर पहुंचने का जरिया, मुस्लिम समुदाय ने दान की जमीन, अब बनेगा नया रास्ता

चैतन्य भारत न्यूज

तिरुवनंतपुरम. केरल के मलप्पुरम के मुथुवल्लुर पंचायत में सांप्रदायिक एकता की एक नई मिसाल पेश की गई है। यहां दलितों को खराब रास्ते के कारण मंदिर तक पहुंचने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। इसलिए मुस्लिम कमेटी ने जमीन का एक हिस्सा दान किया है।

मंदिर के आसपास का हिस्सा पारथकड़ जामा मस्जिद का है। रास्ते की परेशानी दूर करने के लिए मंदिर कमेटी ने मस्जिद कमेटी से मुलाकात की थी। इसके जवाब में मस्जिद कमेटी अपनी जमीन का कुछ हिस्सा बिना किसी राशि के मंदिर को देने के लिए राजी हो गया। इतना ही नहीं बल्कि ऊंचाई होने के कारण मस्जिद कमेटी ने यहां सीढ़ियों का भी निर्माण कराया है।

मस्जिद कमेटी के सचिव शिहाब का ने कहा कि, ‘जब वे हमारे पास आए, तो हम वाकई उनकी मदद करना चाहते थे। कॉलोनी में रहने वाले लोगों को रोड कनेक्शन की जरूरत थी, लेकिन जमीन मस्जिद के हिस्से में थी तो यहां कुछ ऐसे नियम हैं, जहां जमीन किसी और को नहीं दी जा सकती। ऐसे में हमें जांच करनी पड़ी।’ उन्होंने बताया, ‘जब हमने पता किया कि जमीन दी जा सकती है। इस तरह से हमने जमीन का हिस्सा दान करने का फैसला किया।’ इसके अलावा पंचायत अध्यक्ष अहमद सागिर ने पाया कि वे रास्ते के दान दी गई जमीन पर सीढ़ियां तैयार करा सकते हैं, तो उन्होंने मस्जिद कमेटी से फंड जारी करने का वादा किया। इस तरह से कमेटी ने जमीन देने के बाद उसपर सीढ़ियां भी तैयार कराईं।

दलित समुदाय की प्रतिक्रिया

मस्जिद कमेटी के इस फैसले पर मंदिर के पुजारी बाबू चेल्लोथ उनियथन ने कहा ‘मंदिर 45 साल से ज्यादा पुराना है। कॉलोनी और मंदिर तक पहुंचने के लिए पहाड़ पर चढ़ना काफी मुश्किल होता था। जब हमने महल्लू कमेटी से बात की, तो उन्होंने हमारा काफी साथ दिया।’ इसके अलावा उन्होंने बताया ‘नजदीक ही रहने वाले दो और परिवारों ने भी मुख्य रास्ते से मंदिर को जोड़ने के लिए 4 फीट जमीन इसमें दान की है। मस्जिद की तरफ से मिला दान काफी बड़ा है, रास्ता 100 मीटर से ज्यादा बड़ा है। हम सभी के आभारी हैं।’

Related posts