सर्वाधिक कमाई करने वाले टॉप-10 लोगों में से 7 की पत्नियां गृहिणी

चैतन्य भारत न्यूज

वाशिंगटन. दुनिया के सबसे धनी और अति विकसित देशों में एक अमेरिका में महिलाओं की स्थिति को लेकर एक हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ है। यहां का सामाजिक बदलाव भी पुरुषों के पक्ष में है। अमेरिका में सबसे ज्यादा आय प्राप्त करने वाले एक फीसदी घरों में से अधिकांश में महिलाएं रुढ़िवादी भूमिका में ही पाई गई हैं। इन परिवारों के सबसे अधिक कमाने वाले 70 फीसदी पुरुषों की पत्नियां गृहिणी (होम मेकर या हाउस वाइफ) हैं। घर संभालने की जिम्मेदारी किसी नौकरी से कई ज्यादा बड़ी होती है। दिखने में भले ही घर का काम आसान लगता हो लेकिन असल में गृहणियों का काम किसी नौकरी से कई ज्यादा कठिन होता है।

उच्च शिक्षा पाई पर संभाल रही हैं घर

अमेरिका में हुए एक शोध में यह पाया गया है कि, अपने साथी के कामकाज की व्यस्तता को समायोजित करने के लिए किसी एक को अपने करियर से समझौता करना पड़ता है। उत्तरी कैरोलिना शेर्लोट विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर जिल यावेस्की ने बताया कि, अपने साथी के काम को लेकर अक्सर महिलाओं को अपने काम से समझौता करना पड़ता है। रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि, घर संभालने वाली महिलाएं कम पढ़ी-लिखी नहीं होती हैं। बल्कि ऐसी महिलाओं में ज्यादातर शिक्षित पाई गई हैं। उनके पति घर की जिम्मेदारियों से मुक्त रहकर नौकरी पर पूरा ध्यान लगा सकें इसलिए वे घर संभालती हैं।

21 साल में लैंगिंक आंकड़ों का विश्लेषण कर निकाला यह निष्कर्ष

पिछले कई सालों में यावेस्की और उनके सहयोगियों ने 1995 से 2016 के लैंगिक आंकड़ों का अध्ययन किया। फेडरल रिजर्व बोर्ड के सर्वेक्षण के आंकड़ों के आधार पर अमेरिकन सोशियोलॉजिकल एसोसिएशन द्वारा हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन में निर्धारित किया गया कि शीर्ष एक फीसदी की कमाई के स्तर तक पहुंचने के लिए घर की आय करीब 5.87 करोड़ रुपए होना आवश्यक होती है। वहीं साल 2016 की बात करें तो इस श्रेणी के शीर्ष एक फीसदी की कमाई वाले परिवारों को अमेरिका की कुल आय का 23.8 फीसदी मिला।

शादीशुदा पुरुषों को मिला ज्यादा लाभ

अविवाहितों के मुकाबले समान मात्रा में कमाई करने वाले विवाहित पुरुषों के पास एक फीसदी के आंकड़े को छूने की अधिक संभावना देखी गई। हालांकि, इस रिपोर्ट के जरिए यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि पुरुषों के लिए शादी ही एक बेहतर विकल्प क्यों हैं?

आपसे ज्यादा तनख्वाह पाने की हकदार है गृहणी

भले ही गृहणियां नौकरी नहीं करती हैं लेकिन उनका काम आसान नहीं है। वह भी किसी पेशेवर की तरह ही पूरे दिन घर के कामों में व्यस्त रहती हैं। भले ही किसी गृहणी के काम को मामूली समझा जाता हो लेकिन असलियत में ये काम नौकरी करने से कई ज्यादा कठिन होता है। नौकरी करने का समय भी सीमित रहता लेकिन गृहणियों के कामों का कोई सीमित समय नहीं रहता है। नौकरी में तो आपके ऊपर एक या दो या ज्यादा से ज्यादा तीन जिम्मेदारियां रहती हैं लेकिन एक गृहणी के ऊपर सैकड़ों जिम्मेदारियां होती हैं। इस हिसाब से तो वह सबसे ज्यादा तनख्वाह पाने की हकदार है। गृहणी इतने कामों का बोझ अपने सिर पर लेकर घूमती है लेकिन इसके लिए वह आपसे कभी तनख्वाह नहीं मांगती है। इन कार्यों के बदले अगर उसे कुछ चाहिए तो वो है ‘सम्मान’। इसलिए हर महिला का सम्मान करना सीखिए। जिस दिन आप किसी महिला या गृहणी का बोझ अपने सिर पर उठा लेंगे न उस दिन आपको उसके द्वारा किए गए कार्यों की अहमियत पता चल जाएगी।

Related posts