बेटी हुई तो मां ने एक दिन की मासूम के सीने में घोंपा हंसिया, पेट-गले पर भी वार कर ले ली जान

shajapur

चैतन्य भारत न्यूज

शाजापुर. मध्य प्रदेश में एक दिन की फूल-सी बच्ची के शरीर पर धारदार हथियार से वार कर मौत के घाट उतारने वाले कातिल का खुलासा हो गया है। इस दिल दहला देने वाली घटना को अंजाम किसी और ने नहीं बल्कि बच्ची की मां ने ही दिया था।


बेटी के सीने में घोंपा हंसिया

पुलिस के मुताबिक, आरोपी मंजू ने 12 फरवरी की रात 12:25 बजे अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया था। ब्लीडिंग होने पर डॉक्टरों ने उसे शाजापुर रैफर कर दिया। फिर 13 फरवरी को परिजनों ने अधूरे इलाज में ही मंजू की अस्पताल से छुट्टी करवा ली। घर पहुंचते ही उसने अपनी नन्ही-सी बेटी के सीने में हंसिया घोंप दिया था। फिर उसने बच्ची के पेट और गर्दन पर वार किए। जब मासूम की चीखें सुनकर पड़ोसी आए तो बेरहम मां ने वार करना बंद किया। बता दें मंजू ने यह सब बेटा नहीं होने के गुस्से में किया।

अस्पताल में बताई झूठी कहानी

बच्ची को जिंदा देख मंजू के परिजन उसे शाजापुर जिला अस्पताल ले गए। वहां से बच्ची को इंदौर के एमवाय अस्पताल भेज दिया। यहां जिंदगी और मौत से जूझ रही नन्ही-सी जान ने 14 फरवरी को दुनिया को अलविदा कह दिया। पुलिस ने बताया कि, परिजनों ने एम वाय अस्पताल में डॉक्टरों के सामने डिलीवरी के बाद ब्लीडिंग की झूठी कहानी डॉक्टरों को बताई थी।

सख्ती से पूछताछ की तो टूट गई मंजू

शनिवार सुबह पुलिस ने मंजू और उसके पति समेत 4 रिश्तेदारों को हिरासत में लेकर थाने ले जाकर उनसे सख्ती से पूछताछ की। पूछताछ के दौरान मंजू ने सच कबूल दिया। उसने कहा कि, उसे बेटा चाहिए था लेकिन बेटी हुई इसलिए उसने वारदात को अंजाम दिया। बता दें मंजू को पहले से ही एक बेटी है। इसके बाद वह एक बार गर्भपात करवा चुकी है।

ये भी पढ़े…

रणजीत बच्चन हत्याकांड: पति के अवैध संबंध का था शक, इसलिए पत्नी स्मृति ने प्रेमी संग मिलकर करवा दिया कत्ल

अवैध संबंध के शक में इस एक्ट्रेस की पति ने की ह्त्या, जेल भेजे गए हत्यारे

भजनपुरा इलाके में एक ही घर से सड़ी-गली हालत में मिले 5 शव, आत्महत्या का शक

Related posts