बाइक पर गोद में लिए बच्चे को भी माना जा सकता है तीसरी सवारी, कट सकता है चालान

chalan,motor vehicle,motor vehicle new act

चैतन्य भारत न्यूज

1 सितंबर से नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू हो गया है, जिसके बाद से चालान के चक्कर में पूरा देश परेशान हो गया है। मानों नया मोटर व्हीकल एक्ट नहीं हुआ जैसे आफत हो गया है। नए कानून का खौफ सड़कों पर दिख रहा है। अब इसी बीच खबर आई है कि बाइक सवार दंपती अगर गोद मेें बच्चे को लेकर चल रहे हैं, तो ट्रैफिक पुलिस बच्चे को भी तीसरी सवारी मानकर ट्रिपल राइडिंग का चालान काट सकती है।

जी हां…1 सितंबर से लागू हुए संशाेधित माेटर वाहन कानून में बाइक पर दाे से ज्यादा सवारी ओवरलाेड मानी जाती हैं। इसमें बच्चाें के लिए छूट का कहीं काेई उल्लेख नहीं है। हालांकि मंत्रालय ने इस समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया है लेकिन समय सीमा तय नहीं की है। ट्रैफिक पुलिस के संयुक्त आयुक्त कन्नन जगदीशन ने बताया कि नए कानून में दाेपहिया पर शिशु या बच्चों के लिए कोई गाइडलाइन नहीं है। ऐसेे में उसे तीसरी सवारी ही माना जाएगा।



देश में 14 करोड़ से भी ज्यादा दो पहिया वाहन

  • रिपोर्ट के मुताबिक, देश में 7 करोड़ से ज्यादा वाहन चार पहियों वाले हैं। इनमें से बाइक चालकों की संख्या 14 करोड़ से ज्यादा हैं।
  • पहले बाइक ओवरलोड होने पर 100 रुपए जुर्माना लिया जाता था लेकिन अब 2 हजार रुपए जुर्माना लिए जाने का प्रावधान हैं।
  • इस जुर्माने के साथ ही बाइक सवार का लाइसेंस अयोग्य करने का प्रावधान है।

ये भी पढ़े…

लखनऊ में अगर शार्ट्स, लुंगी या बरमूडा पहनकर चलाई गाड़ी तो भरना पड़ेगा चार गुना जुर्माना

दिल्ली में कटा सबसे बड़ा ट्रैफिक चालान, भगवान राम ने भरा लाखों रुपए जुर्माना

15 हजार की स्कूटी पर आखिर कैसे लगा 23 हजार रुपए का जुर्माना? जानिए

 

Related posts