मप्र: कोरोना के चलते विधानसभा का बजटसत्र 26 मार्च तक स्थगित, नहीं हुआ फ्लोर टेस्ट, सदन में हंगामा

kamalnath

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार पर छाया संकट कुछ दिनों के लिए टल गया है। सोमवार को मध्यप्रदेश विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत होनी थी। इससे पहले राज्यपाल लालजी टंडन के आदेश पर फ्लोर टेस्ट (शक्ति परिक्षण) होना था। लेकिन अब विधानसभा की कार्यवाही को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

1 मिनट में खत्म किया भाषण

राज्यपाल ने महज एक मिनट में ही अपना भाषण खत्म कर दिया। राज्यपाल ने अपने भाषण में कहा- ‘जिसका जो दायित्व है वो उसका निर्वहन करे। सभी संविधान और परंपरा का पालन करें।’ साथ ही राज्य में विधानसभा की कार्यवाही को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक, मध्य प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही को कोरोना वायरस के चलते स्थगित किया गया है।

विधायकों को नियम पालन करने को कहा

राज्यपाल लालजी टंडन ने अपने अभिभाषण में विधायकों से नियम का पालन करने को कहा. राज्यपाल ने कहा कि, ‘सभी सदस्यों को शुभकामना के साथ सलाह देना चाहता हूं कि प्रदेश की जो स्थिति है, उसमें अपना दायित्व शांतिपूर्ण तरीके से निभाएं।’ राज्यपाल स्वास्थ्य खराब होने के चलते अपना पूरा भाषण नहीं पढ़ पाए। उन्होंने सिर्फ भाषण की पहली और आखिरी लाइन ही पढ़ी।

शुरू हुआ हंगामा

राज्यपाल ने जैसे ही अपनी बात पूरी की तो विधानसभा में हंगामा शुरू हो गया। उनका भाषण खत्म होते ही कुछ विधायकों ने नारेबाजी करना शुरू कर दी।
हंगामा बढ़ता देख स्पीकर एन पी प्रजापति ने सदन की कार्यवाही को 10 मिनट के लिए स्थगित कर दिया।

6 मंत्री के इस्तीफे मंजूर 

बता दें पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद कमलनाथ सरकार संकट में आ गई। सिंधिया के समर्थक 22 विधायक बेंगलुरु में हैं। विधानसभाध्यक्ष एन पी प्रजापति ने 6 विधायक जो राज्य मंत्री भी थे उनके इस्तीफे मंजूर कर लिए हैं।

मप्र विधानसभा गणित 

मध्यप्रदेश में कुल 230 विधानसभा सीटें हैं। इनमें से दो सीट खाली हैं, जिसके बाद कुल संख्या 228 है। 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर होने के बाद यह संख्या 222 हो गई है।

बीजेपी का अंक गणित

  • बीजेपी के पक्ष में 7 निर्दलीय विधायक आ जाएं तो संख्या 107+7=114 बहुमत 112 से दो ज्यादा।
  • यदि कांग्रेस के सभी बागी बीजेपी के साथ चले जाते हैं तो इनकी संख्या 107+16 =123 हो जाएगी।

कांग्रेस का अंक गणित

  • यदि कांग्रेस के साथ 7 निर्दलीय आते हैं तो सरकार की संख्या 92+7=99 होगी।
  • यदि बीजेपी के दो विधायक कमलनाथ सरकार का साथ देते हैं तो आंकड़ा 99+2=101 हो जाएगा।
  • यदि 16 बागी विधायकों में से 5 या 6 वापस आते हैं तो भी सरकार 107 की संख्या तक पहुंच जाएगी।

ये भी पढ़े… 

मप्र: आधी रात को राज्यपाल से सीएम कमलनाथ ने की मुलाकात

मप्र: राज्यपाल से मिले सीएम कमलनाथ, कहा- फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हूं, लेकिन पहले हमारे बंधक विधायकों को मुक्त कराएं

संकट में कमलनाथ सरकार, फिर भी है बहुमत का भरोसा, यहां देखें मप्र विधानसभा का गणित

कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने छोड़ी पार्टी, 20 कांग्रेस विधायकों का भी इस्तीफा, मप्र की कमलनाथ सरकार संकट में

 

Related posts