अपराधियों को सजा दिलाने में मप्र आगे, ‘गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ से मिला पहला पुरस्कार

चैतन्य भारत न्यूज।

भोपाल। अमेरिका की संस्था ‘गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ ने प्रदेश को देश के प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया है। प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने बताया अपराधियों को सजा दिलाने में मध्यप्रदेश अब देश का अग्रणी राज्य बन गया है। इस उपलब्धि के लिए गृह मंत्री बच्चन ने संचालक लोक अभियोजन राजेन्द्र कुमार को पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्था में यह पुरस्कार सौंपा।

बेहतर कानून-व्यवस्था के लिए सजगता बरतें

गृह मंत्री बच्चन ने कहा कि प्रदेश में बेहतर कानून-व्यवस्था के लिए आवश्यक है कि पुलिस द्वारा अपराधियों के विरूद्ध तत्परता से कार्रवाई की जाए और अभियोजन अधिकारी उन्हें सजा दिलाने में सजगता बरतें। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में इन दोनों पक्ष में बेहतर समन्वय है। तभी प्रदेश के अभियोजन अधिकारी वर्ष 2018 में 21 प्रकरण में केपिटल पनिशमेंट (फांसी की सजा) कराने में सफल हुई है। उन्होंने इस सफलता के लिए अधिकारियों को बधाई दी और राज्य सरकार की ओर से सभी आवश्यक संसाधन सुविधाएं मुहैया करवाने का आश्वासन दिया।

संचालक लोक अभियोजन राजेन्द्र कुमार ने बताया कि मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है जहां लोक अभियोजन अधिकारियों के कार्य का मूल्यांकन ‘एप’ के जरिए प्रतिदिन, प्रतिमाह और प्रतिवर्ष किया जाता है। एप के आधार पर ही प्रदेश में पहली बार सर्वोत्तम कार्य करने वाले अधिकारियों को विभिन्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

सम्मानित अधिकारी

लोक अभियोजन वार्षिक पुरस्कार 2018 में अभियोजन गौरव का पुरस्कार – अनीता भरतिया, अमित कुमार शुक्ला, मौसमी तिवारी और उदयभान रधुवंशी को दिया गया। सर्वोत्तम उप संचालक अभियोजन जिले का पुरस्कार श्याम लाल कोष्टा (सतना), जगपाल सिंह तोमर (खरगोन) सहायक लोक अभियोजन अधिकारियों में ज्योति गुप्ता (इंदौर), सीमा शर्मा (रतमाल), डॉ. रश्मि वेवम शर्मा (मुरैना) सहित 14 मास्टर ट्रेनर को पुरस्कृत किया गया।

 

Related posts