MP: कोरोना जांच के लिए अब अस्पताल और निजी लैब नहीं वसूल पाएंगे ज्यादा पैसे, सरकार ने तय किए दाम

चैतन्य भारत न्यूज

मध्यप्रदेश में कोरोना मरीजों के इलाज और कोविड जांच को लेकर हो रही मनमानी पर शिवराज सरकार ने अब लगाम लगा दी है। सरकार ने कोरोना की जांच के लिए दाम तय कर दिए हैं जिससे कि अब निजी अस्पताल और लैब मरीजों से मनमाना पैसा नहीं वसूल सकेंगे। अब 1000 रुपए में होने वाली RT-PCR अब 700 रुपए में होगी।

सोमवार को स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एक आदेश में कोरोना जांच की कीमतें नए सिरे से निर्धारित कर दीं गईं हैं। आदेश के अनुसार, अब RT-PCR टेस्ट केवल 700 रुपए में होगा, जबकि रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए 300 रुपए देने होंगे। घर पर जांच करवाने पर 200 रुपए अतिरिक्त देने होंगे। इस शुल्क में ट्रांसपोर्ट, पीपीई किट जैसी सभी सुविधाएं शामिल होंगी। अस्पताल या लैब कोई अतिरिक्त शुल्क इसके अलावा नहीं ले सकेंगे।

गोपनीय रखी जाएगी सूचना

इसके अलावा निजी अस्पतालों और लैब को कोविड-19 की आरटी-पीसीआर जांच एवं रैपिड एंटीजन टेस्ट के संबंध में भारत सरकार और राज्य सरकार एवं आईसीएमआर द्वारा समय-समय पर निर्धारित प्रोटोकॉल एवं गाइडलाइन का पालन करना होगा। आदेश में कहा गया है कि, सेंपल लेते समय संबंधित व्यक्ति का नाम, पूरा पता, वास्तविक मोबाइल नंबर की पूरी सूचना आरटीपीसीआर ऐप पर अपलोड की जाए साथ ही उक्त सूचना गोपनीय रखी जाए।

विपक्ष ने उठाया था मुद्दा

बता दें कि एक बार फिर कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही निजी अस्पतालों और लैब की मनमानी बढ़ गई थी। पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने इस पर सवाल उठाया था कि निजी अस्पताल दो लाख तक का पैकेज कोरोना मरीजों से इलाज के नाम पर वसूल रहे हैं। सरकार को इस पर रोक लगानी चाहिए।

 

Related posts