युवक लगाता रहा गुहार- सीने में दर्द हो रहा है… फिर भी बेरहमी से पीटते रहे पुलिसवाले, आखिर निकल गई जान

shivam mishra,bhopal,madhyapradesh

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. राजधानी की बैरागढ़ पुलिस की हिरासत में मंगलवार देर रात प्रॉपर्टी डीलर शिवम मिश्रा (25) की मौत हो गई। परिजनों ने आरोप लगाया है कि युवक की मौत पुलिसकर्मियों द्वारा की गई पिटाई के कारण हुई है। इस मामले में राज्य के गृहमंत्री बाला बच्चन ने घटना की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं।

जानकारी के मुताबिक, मंगलवार रात करीब 11 बजे शिवम अपने दोस्त गोविंद शर्मा के साथ खाना खाने एक ढाबे पर जा रहा था। लालघाटी से थोड़ा आगे उनकी एसयूवी बीआरटीएस कॉरिडोर से टकरा गई। इसके बाद पुलिस दोनों को पकड़कर थाने ले आई। यहां पुलिस ने शिवम को इतना पीटा की उसकी जान ही चली गई। शिवम ने कई बार पिटाई कर रहे पुलिसवालों को बताया कि उसके पिता भी पुलिस में हैं। लेकिन पुलिसवालों ने उसकी एक नहीं सुनी और लगातार उसे मारते रहे। इसी बीच शिवम की स्थिति बिगड़ने पर पुलिस उसे अस्पताल ले गई। अस्पताल में चिकित्सकों ने शिवम को मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद एक मेडिकल रिपोर्ट सामने आई है जिसमें शिवम और गोविंद के शराब के नशे में होने की पुष्टि हुई है।

इस मामले में आईजी योगेश देशमुख ने बैरागढ़ थाने के पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। इसमें बैरागढ़ के टीआई अजय मिश्रा, एसआई राजेश तिवारी और तीन जवान शामिल हैं। शिवम के पिता साइबर सेल में पदस्थ हैं। बैरागढ़ थाने का एक सीसीटीवी वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में कुछ पुलिसकर्मी शिवम और गोविंद से बातचीत करते दिख रहे हैं। कुछ ही देर बाद शिवम अचानक बेसुध होकर गिरता दिख रहा है। इसके बाद पुलिसकर्मी उसे डायल-100 गाड़ी से अस्पताल ले जाते हैं।

गोविंद ने बताया कि, पुलिस उन दोनों को थाने तक मारते हुए लाई। पुलिसकर्मियों ने शिवम के हाथ और गले से सोने की अंगूठी व चेन, मोबाइल और 70 हजार रुपए भी निकाल लिए। पुलिसकर्मियों द्वारा मारपीट के बाद शिवम ने यह भी कहा कि उसके सीने में दर्द हो रहा है और फिर वह बेहोश होकर फर्श पर गिर गया। इसके बाद भी पुलिसकर्मी उसके सीने पर लात मारते रहे। जब उसकी सांस चलना बंद हो गई तो उसका मेडिकल कराने के बहाने पुलिसकर्मी अस्पताल ले गए। फिर करीब चार बजे बैरागढ़ अस्पताल के बाहर शिवम का शव स्ट्रेचर पर रखा मिला। गोविंद ने यह भी कहा कि, पुलिसकर्मी शराब पीने का फर्जी मुकदमा दर्ज करने की धमकी दे रहे थे।

इस घटना की निंदा करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा है कि, ‘प्रदेश सरकार की संवेदनाएं मर चुकी हैं। पुलिस प्रशासन निरंकुश हो गया है। युवक की कार बीआरटीएस कॉरिडोर की रेलिंग से टकरा गई थी। ये ऐसी घटना ऐसी नहीं थी कि पुलिस युवक को पीट-पीटकर मार डाले।’ वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि, ‘बैरागढ़ में हुई वाहन दुर्घटना के बाद शिवम मिश्रा की मौत की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं। जांच में जो भी दोषी होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। परिवार के साथ न्याय जरूर होगा।’

Related posts