धोनी के ग्लव्स पर सेना का निशान देख पाकिस्तान को लगी मिर्ची, आईसीसी ने दिए निशान हटाने के आदेश

ms dhoni,dhoni gloves,paksitan,world cup

चैतन्य भारत न्यूज

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के ग्लव्स इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए हैं। बुधवार को भारत और दक्षिण अफ्रीका के मैच के दौरान लोगों की नजर धोनी के ग्लव्स पर पड़ी। उनके ग्लव्स मामूली नहीं थे बल्कि उस पर इंडियन पैरा स्पेशल फोर्सेज का ‘बलिदान बैज’ (सेना का प्रतीक चिह्न) बना हुआ था। सोशल मीडिया पर धोनी के ग्लव्स की तस्वीर वायरल होने के बाद आईसीसी ने धोनी को अपने ग्लव्स से ‘बलिदान बैज’ का निशान हटाने का आदेश दिया। पाकिस्तान के एक मंत्री को भी धोनी के ग्लव्स पर यह निशान देखकर मिर्ची लगी और उन्होंने कहा, धोनी मैच खेलने गए थे न कि महाभारत के लिए गए थे।

आईसीसी ने इसे अपवाद बताते हुए कहा कि, ‘यह उसके नियमों के खिलाफ है।’ साथ ही आईसीसी ने ये भी कहा कि, नियमों का उल्लंघन करने पर धोनी पर जुर्माना भी लग सकता है। धोनी के ग्लव्स की तस्वीर देखने के बाद पाकिस्तान के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने ट्वीट किया जिसमें लिखा कि, ‘धोनी इंग्लैंड में क्रिकेट खेलने गए हैं न कि महाभारत के लिए, भारतीय मीडिया में एक मूर्खतापूर्ण बहस है? भारतीय मीडिया का एक वर्ग युद्ध से इतना प्रभावित है कि उन्हें सीरिया, अफगानिस्तान या रावंडा में भाड़े के सैनिकों के रूप में भेजा जाना चाहिए।’

आईसीसी के नियम के मुताबिक, ‘कोई भी खिलाड़ी धार्मिक, जातीय और राजनीतिक लोगों का इस्तेमाल नहीं कर सकता। बता दें ‘बलिदान बैज’ का इस्तेमाल हर कोई नहीं कर सकता है। यह बैज पैरा-कमांडो लगाते हैं। बैज पर देवनागरी लिपि में ‘बलिदान’ शब्द लिखा होता है। यह बैज चांदी से बना होता है। गौरतलब है कि, धोनी को उनकी उपलब्धियों के कारण 2011 में प्रादेशिक सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल की रैंक दी गई थी। धोनी से पहले यह सम्मान कपिल देव को मिला था।

Related posts